सीबीआई ने जमानत याचिका का विरोध किया, कहा- चिदंबरम ने पीटर और इंद्राणी से रिश्वत ली थी

img

  • सीबीआई ने कहा- वित्त मंत्री रहते हुए चिदंबरम ने अपने पद का दुरुपयोग करके अवैध रकम ली थी
  • सीबीआई के मुताबिक- चिदंबरम को जमानत दिए जाने से भ्रष्टाचार के मामलों में गलत संदेश जाएगा

नई दिल्ली
आईएनएक्स मीडिया केस में तिहाड़ भेजे गए कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी. चिदंबरम की जमानत याचिका का सीबीआई ने विरोध किया है। जांच एजेंसी ने कोर्ट को बताया कि अब तक हुई जांच में पता चला है कि वित्त मंत्री रहते हुए चिदम्बरम ने अपने पद का दुरुपयोग करते हुए अवैध रकम की मांग की। जांच एजेंसी के मुताबिक, फेमा के तहत की गई अनियमितताओं को दबाने के लिए इस रकम की मांग की गई। आईएनएक्स मीडिया केस में आरोपी पीटर और इंद्राणी मुखर्जी ने इस रकम का भुगतान किया। चिदंबरम और उनके बेटे कीर्ति को ये रकम भारत और विदेश में चुकाई गई।

सीबीआई ने 305 करोड़ रुपए की अनियमितता को लेकर केस दर्ज किया
सीबीआई ने अपने जवाब में अपराध की गंभीरता और बड़ी आर्थिक अनियमितताओं का हवाला दिया। सीबीआई ने दावा किया कि अब तक की जांच ये दिखाती है कि इस मामले में चिदंबरम ही मुख्य आरोपी हैं। सीबीआई ने इस मामले में करीब 305 करोड़ रुपए की अनियमितता को लेकर केस दर्ज किया है।

चिदंबरम की न्यायिक हिरासत 3 अक्टूबर तक बढ़ी है
जांच एजेंसी की तरफ से कहा गया कि चिदंबरम को जमानत दिए जाने से भ्रष्टाचार के मामलों में गलत संदेश जाएगा। दिल्ली हाईकोर्ट में चिदंबरम की जमानत याचिका पर 23 सितंबर को सुनवाई होनी है। इससे पहले अदालत चिदंबरम की न्यायिक हिरासत 3 अक्टूबर तक बढ़ा चुकी है। 

whatsapp mail