आचार्य लोकेश मुनि व केन्द्रीय मंत्री पीयूष गोयल की राष्ट्रीय महत्व के विषयों पर हुई विस्तृत चर्चा

img

दिल्ली
अहिंसा विश्व भारती के संस्थापक जैन आचार्य डा. लोकेश मुनि एवं भारत सरकार के केन्द्रीय मंत्री पीयूष गोयल की दिल्ली में राष्ट्रीय महत्व के विषयों व महात्मा गांधी की 150वीं वर्षगाँठ के अवसर पर अहिंसा विश्व भारती संस्था द्वारा देश भर में आयोजित किये जा रहे 24 कार्यक्रमों की श्रृंखला के बारे में विस्तृत चर्चा हुई। बैठक मे विश्व शांति और सद्भावना के साथ-साथ गांधी जी के विचारों को नई पीढ़ी तक पहुंचाने पर भी गहन विचार हुआ। अहिंसा विश्व भारती के संस्थापक आचार्य डॉ. लोकेशजी ने कहा कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी, महान सोच वाले एक साधारण व्यक्ति थे। वे करोड़ों देशवासियों के जीवन में बदलाव लाना चाहते थे। आज हमें जो आजादी हासिल है, उसके लिए उन्होंने बड़ी कुर्बानियां दी थीं। आज हम परिवार के अंदर बंट गए हैं, खुद को कंप्यूटर तक सीमित कर लिया है और स्मार्टफोन को अपनी दुनिया बना ली है। इन जंजीरों से निकलने में बापू के विचार हमारे लिए मददगार साबित हो सकते हैं। गांधीजी जो कहते थे, वह करते थे। मौजूदा समय में हम जिस दौर से गुजर रहे हैं उसमें बहुलतावादी संस्कृति का संरक्षण व संवर्धन करके महात्मा गांधी जी के विचारों को जन-जन तक पहुंचाने की आवश्यकता है। साथ ही, पर्यावरण, स्वास्थ्य, शिक्षा आदि जैसे राष्ट्रीय महत्व के मुद्दों पर गहनता से विश्लेषण एवं अनुसंधान करने की जरूरत है। भारत सरकार के केन्द्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने शांतिदूत आचार्य डॉ. लोकेशजी द्वारा उठाए विषयों की प्रशंसा करते हुए कहा कि देश मे अनेक योजनाए भारत सरकार द्वारा चलायी गई हैं जो मौजूदा सरकार में ज्यादा प्रतिशत में जन-जन तक पहुँच रही हैं  जिनसे पर्यावरण, स्वास्थ्य, शिक्षा एवं कई राष्ट्रीय समस्याओं को काबू करके देश को विश्व के शिखर तक पहुंचाने के लिए सरकार प्रयासरत है। महात्मा गांधी जी के विचारों को देश के युवा एवं नई पीढ़ी तक पहुँचाने हेतु आचार्य लोकेश जी के कदमों की सराहना करते हुए उन्होंने कहा कि एक दिन इन्हीं प्रयासों कि वजह से देश सकारात्मक ऊर्जा से भरपूर एवं नई बुलंदियों की ओर अग्रसर होगा। साथ ही, श्री गोयल ने अहिंसा विश्व भारती संस्था द्वारा देश भर में आयोजित किये जा रहे 24 कार्यक्रमों की सराहना करते हुए कहा कि इस तरह के कार्यक्रमों से देश में अहिंसा कि राह पर चलने के साथ ही साथ शांति एवं सद्भावना का संदेश समाज में उचित ढंग से जाएगा। 

whatsapp mail