डॉ. महेंद्र नाथ पाण्डेय ने मुंबई में भारतीय कौशल संस्थान का शिलान्यास किया

img

मुंबई
भारत को विश्व की कौशल राजधानी बनाने के लक्ष्य पर बढ़ते हुए, कौशल विकास और उद्यमशीलता के माननीय मंत्री डॉ. महेंद्र नाथ पाण्डेय ने आज भारतीय कौशल संस्थान की मुंबई में आधार शिला रखी। यह संस्थान दसवीं और बारहवीं कक्षा को पूरा करने के बाद तकनीकी शिक्षा को आगे बढ़ाने के इच्छुक छात्रों को कौशल प्रशिक्षण प्रदान करेगा और उन्हें नए भारत और वैश्विक बाजार के लिए रोजगारपरक बनाएगा। भारतीय कौशल संस्थानों को स्थापित करने का उद्देश्य अंतरराष्ट्रीय स्तर के कौशल प्रशिक्षण केंद्रो का निर्माण करना था विश्व स्तरीय कौशल विकास प्रशिक्षण दिया जाए। अमरजीत मिश्रा, एमओएस स्टेटस वाइस-चेयरमैन, महाराष्ट्र फिल्म, स्टेज एंड कल्चरल डेवलपमेंट कॉपोरेशन लिमिटेड मंगेश एम कुडालकर, विधायक, मलिक अब्दुल राशिद निगम सदस्य, नटराजन चंद्रशेखरन, टाटा संस, ए एम नाइक, अध्यक्ष, राष्ट्रीय कौशल विकास निगम और समूह अध्यक्ष, लार्सन एंड टुब्रो लिमिटेड, के पी कृष्णन, सचिव, कौशल विकास और उद्यमशीलता मंत्रालय और अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी आई आई एस के उद्घाटन में उपस्थित थे। केंद्रीय मंत्रीमंडल ने स्किल इंडिया मिशन को अंतराष्ट्रीय स्तर देने के लिए देश के तीन स्थानों - मुंबई, अहमदाबाद और कानपुर में भारतीय कौशल संस्थान स्थापित करने के लिए अपनी मंजूरी दी थी। इन संस्थानों का निर्माण और संचालन पीपीपी मॉडल पर और नॉट-फॉर-प्रॉफिट के आधार पर किया जाएगा। संस्थान का उद्घाटन करते हुए, डॉ महेंद्र नाथ पाण्डेय, माननीय केंद्रीय कौशल विकास और उद्यमशीलता मंत्री, ने कहा, भारतीय कौशल संस्थान की अवधारणा की कल्पना माननीय प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी जी ने स्वंय की थी जब वह सिंगापुर में व्यावसायिक शिक्षा और प्रशिक्षण केंद्र का दौरा किया था। उनके मार्गदर्शन में, हमारा यह आईआईएस संस्थान आईआईटी और हमारे देश में आईआईएम के तर्ज पर होगा। यह अंतराष्ट्रीय बाजार और आधुनिक आवश्यकताओं की जरूरतों को पूरा करने के लिए उसी स्तर के समान प्रतिष्ठा, कद और विश्वस्तरीय बुनियादी ढाँचा होगा। ठीक उसी तरह जैसे हम अब मेक इन इंडिया के लिए जाने जा रहे हैं, जल्द ही हम स्किल्ड इन इंडिया के लिए भी जाने जाएंगे। 

whatsapp mail