एएन-32 विमान हादसे में वायुसेना के 13 जवान और अफसर शहीद, 10 दिन बाद शव बरामद

img

वायुसेना के मुताबिक- जवानों के परिवारों को उनके शहीद होने की सूचना पहुंचाई गई

  • एएन-32 ने 3 जून को असम के एयरबेस से उड़ान भरी थी, यह अरुणाचल में लापता हो गया था
  • 11 जून को सियांग के जंगलों में विमान का मलबा मिला, 12 जून को 15 जवान और पर्वतारोहियों की टीम उतारी गई

ईटानगर
अरुणाचल प्रदेश में क्रैश हुए वायुसेना के विमान एएन-32 में सवार सभी 13 जवान और अफसर शहीद हो गए। सभी के परिवारों को सूचना दे दी गई है। दोपहर बाद सर्च ऑपरेशन में विमान एएन-32 के ब्लैक बॉक्स के साथ सभी के शव भी मिल गए। शहीदों में विंग कमांडर जीएम चार्ल्स, स्क्वाड्रन लीडर एच विनोद, फ्लाइट लेफ्टिनेंट आर थापा, फ्लाइट लेफ्टिनेंट ए तंवर, फ्लाइट लेफ्टिनेंट एस मोहंती और फ्लाइट लेफ्टिनेंट एमके गर्ग शामिल हैं। इनके अलावा वारंट ऑफिसर केके मिश्रा, सार्जेंट अनूप कुमार, कॉर्पोरल शेरिन, लीड एयरक्राफ्ट मैन एसके सिंह, पंकज और असैन्यकर्मी पुताली, राजेश कुमार भी हादसे में शहीद हो गए। वायुसेना ने तलाशी अभियान के दौरान मंगलवार को 3 जून से लापता एएन-32 का मलबा अरुणाचल के सियांग जिले के जंगल में मिलने की पुष्टि की थी। इसके बाद बुधवार को दो हेलिकॉप्टर के जरिए 15 जवान और पर्वतारोही की टीम दुर्घटना वाली जगह के पास उतारी थी। टीम ने 12 हजार फीट की ऊंचाई पर जंगल में गिरे मलबे और इसमें सवार लोगों की तलाश की। तीनों सेनाओं की मदद से आठ दिन तक बड़े पैमाने पर तलाशी अभियान चलाया गया था। इस दौरान एमआई-17 हेलिकॉप्टर को अरुणाचल के जंगल में विमान का मलबा दिखाई दिया था।

इस इलाके में ज्यादा टर्बुलेंस, इसलिए उड़ान मुश्किल
कई रिसर्च में एक बात सामने आई कि अरुणाचल के इस इलाके में बहुत ज्यादा वायुमंडलीय हलचल रहती है। 140 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चलने वाली हवा यहां की घाटियों के संपर्क में आने पर ऐसी स्थितियां बनाती है कि उड़ान मुश्किल हो जाती है। 

अरुणाचल में 75 साल पुराने विमान का मलबा मिला था
इससे पहले भी अरुणाचल की पहाडिय़ों पर कई बार ऐसे विमानों का मलबा मिल चुका है, जो दूसरे विश्व युद्ध के दौरान लापता हो गए थे। इसी साल फरवरी में ईस्ट अरुणाचल के रोइंग जिले में 75 साल से लापता एक विमान का मलबा मिला था। यह अमेरिकी वायुसेना का विमान था।
 

whatsapp mail