तृणमूल विधायक की हत्या के मामले में भाजपा नेता मुकुल रॉय समेत चार पर केस दर्ज

img

कोलकाता
पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस के विधायक सत्यजीत बिस्वास की हत्या के मामले में भाजपा नेता मुकुल रॉय समेत चार पर केस दर्ज किया गया। इनमें से दो लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया। साथ ही हंसखली थाने के प्रभारी को निलंबित कर दिया गया है। बिस्वास को शनिवार रात गोली मारी गई थी। नजदीकी अस्पताल ले जाने पर डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। घटना के वक्त वे फुलबारी इलाके में सरस्वती पूजा के कार्यक्रम में थे। पुलिस के मुताबिक, हमलावर ने प्वाइंट ब्लैंक रेंज से सत्यजीत पर गोली चलाई। इलाके में कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए भारी पुलिसबल तैनात किया गया है। सत्यजीत नादिया जिले की कृष्णागंज सीट से विधायक थे। कुछ दिन पहले ही उनकी शादी हुई थी। इस मामले में मुकुल रॉय ने कहा, पूरे राज्य में कहीं भी उनके कार्यकर्ता या अन्य अपराधी कोई भी हत्या करता है, तृणमूल और ममता सरकार भाजपा के लोगों को फंसाने की कोशिश करती है। मैं इस मामले में स्वतंत्र एजेंसी से जांच की मांग करता हूं। उन्होंने कहा, ममता हमसे डरी हुई हैं। इसी वजह से ममता के कहने पर भाजपा के खिलाफ हत्या के आरोप लगाए जा रहे हैं।

तृणमूल ने कहा- यह भाजपा की साजिश

तृणमूल नेता शंकर दत्ता का आरोप है कि यह भाजपा की ओर से साजिश के तहत कराई गई हत्या है। वहीं, बंगाल भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष ने आरोपों को बेबुनियाद करार दिया। उन्होंने कहा कि विधायक की हत्या दुर्भाग्यपूर्ण है। इसकी सीबीआई जांच होनी चाहिए।

तृणमूल छोड़कर भाजपा में शामिल हुए हैं मुकुल रॉय

रॉय कुछ साल पहले तक ममता बनर्जी के काफी करीबी और भरोसेमंद माने जाते थे। उन्हें पश्चिम बंगाल में पार्टी के कद्दावर नेता के तौर पर जाना जाता था। वह पश्चिम बंगाल से तृणमूल के राज्यसभा सांसद थे। यूपीए सरकार में ममता बनर्जी के रेल मंत्री पद से इस्तीफा देने के रॉय ने 2012 में 6 महीने के लिए रेल मंत्रालय का जिम्मा संभाला था। वे नवंबर 2017 में भाजपा में शामिल हुए थे। 

whatsapp mail