उफान पर यमुना, कई इलाकों को कराया गया खाली, ट्रेने रुकी

img

नई दिल्ली
असम, बिहार, केरल, महाराष्ट्र के बाद अब देश की राजधानी दिल्ली पर बाढ़ का खतरा मंडराने लगा है। हरियाणा के हथनीकुंड बैराज से पानी छोड़े जाने के बाद यमुना का पानी खतरे के निशान से ऊपर पहुंच गया है। इससे दिल्ली में बाढ़ का खतरा मंडरा रहा है। दिल्ली सरकार और प्रशासन ने मामले की गंभीरता को देखते हुए कई इलाकों को खाली कर दिया है। वहीं, यमुना ब्रिज से ट्रेनों की आवाजाही रोक दी गई है। जानकारी के मुताबिक, हथिनीकुंड बैराज में जलस्तर ने पिछले 6 साल का रिकॉर्ड तोड़ दिया है। रविवार को जलस्तर 8.28 लाख क्यूसेक तक पहुंच गया था। इससे पहले साल 2013 में जलस्तर 8 लाख क्यूसेक था। हथिनीकुंज बैराज से यमुना में अब तक 8 लाख क्यूसेक से ज्यादा पानी छोड़ा जा चुका है। विगत चालीस साल में पहली बार दिल्ली की तरफ इतना पानी छोड़ा गया है। दिल्ली में यमुना का खतरे का स्तर 205.33 मीटर है। जलस्तर खतरे के निशान को पार करके 205.36 मीटर तक पहुंच गया। अनुमान लगाया जा रहा है कि आज यमुना का जलस्तर 206.20 मीटर तक पहुंच गया। इसके अलावा यमुना ब्रिज से गुजरने वाली ट्रेनों को रोक दिया गया है। कहा जा रहा है कि अगामी दो दिन दिल्ली के लिए बेहद मुश्किल भरे हो सकते हैं। क्योंकि, पानी का बहाव तेज होगा।

whatsapp mail