भाजपा में मोदी के बाद योगी दूसरे नंबर के स्टार प्रचारक, 137 जनसभाएं कीं

img

नई दिल्ली
उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भाजपा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बाद दूसरे नंबर के स्टार प्रचारक बनकर उभरे। लोकसभा चुनाव के दौरान योगी ने 137 जनसभाएं कीं। वहीं, मोदी ने 50 दिन के अपने चुनाव प्रचार में 142 रैलियां कीं। योगी ने 24 मार्च को सहारनपुर में शाकंभरी देवी के दर्शन कर चुनाव प्रचार की शुरुआत की थी। इसके बाद उन्होंने राज्य की हर सीट पर चुनाव प्रचार किया। योगी ने गोरखपुर सीट पर 25 जनसभाएं कीं। फायरब्रांड छवि वाले योगी भाजपा के परंपरागत और हिंदू वोट को खींचने में कामयाब माने जाते हैं। इसके अलावा गोरखनाथ पीठ के प्रमुख होने के चलते पूर्वोत्तर राज्यों समेत देश भर में उनकी पीठ से जुड़े नाथ संप्रदाय के लोग रहते हैं। नाथ संप्रदाय पर योगी की अच्छी पकड़ मानी जाती है। योगी समर्थक के मुताबिक, उत्तरप्रदेश खासकर पूर्वांचल के लोग बड़ी संख्या में महाराष्ट्र और गुजरात में रहते हैं। योगी उनके बीच में काफी लोकप्रिय हैं। उनकी हिंदुत्व की छवि भी वोटरों को प्रभावित करती है। आदित्यनाथ के अली और बजरंगबली के बयान को लेकर चुनाव आयोग ने भले ही उनके प्रचार पर 72 घंटे का बैन लगा दिया हो, लेकिन उनका यह बयान उनकी कट्टरवादी हिंदू छवि की पुष्टि करता है। योगी आदित्यनाथ ने परंपरा को तोड़ते हुए ईद की नमाज के मौके पर मुख्यमंत्री के तौर पर ईदगाह जाने से भी इनकार कर दिया था। उन्होंने विधानसभा में कहा था कि वे हिंदू हैं और ईद नहीं मनाते। इससे पहले मुख्यमंत्री बनने के बाद उन्होंने अवैध स्लॉटर हाउस भी बंद कराने के आदेश दिए थे।

उत्तरप्रदेश, बंगाल और ओडिशा में मोदी का फोकस रहा
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 50 दिन के लोकसभा चुनाव प्रचार अभियान के दौरान 142 रैलियां कीं। इस दौरान उनका ज्यादा फोकस उत्तरप्रदेश, बंगाल और ओडिशा की 143 सीटों पर रहा। यहां मोदी ने 54 यानी (40त्न) जनसभाएं कीं। 28 मार्च को उत्तरप्रदेश के मेरठ से शुरू हुआ उनका प्रचार अभियान 17 मई को मध्यप्रदेश के खरगोन में खत्म हुआ। इस दौरान प्रधानमंत्री ने चार रोड शो किए। अभियान के आखिरी दिन शुक्रवार को मोदी एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में भी शामिल हुए।

whatsapp mail