इस दिन मनाई जाएगी ईद-ए-मिलाद, जानिए इसका महत्व

img

ईद-ए-मिलाद जिसे मिलाद-उन-नबी भी कहते हैं इस बार 21 नवंबर को मनाया जाएगा। यह त्योहार पैगंबर हजरत मोहम्मद साहब के जन्म की खुशी में मनाई जाता है। इस्लामिक कैलेंडर के अनुसार साल के तीसरे महीने की रबी-उल- अव्वल की 12वीं तारीख को यह उत्सव मनाया जाता है। ईद-ए-मिलाद भारत में 20 नवंबर से 21 नवंबर तक मनाया जाएगा। इस्लाम के संस्थापक पैगंबर मोहम्मद साहब का जन्मदिन रबीउल अव्वल महीने की 12 तारीख को मनाया जाता है। मक्का शहर में 571 ईसवी को पैगम्बर साहब हजरत मुहम्मद सल्ल. का जन्म हुआ था। इसी की याद में मिलाद-उन-नबी पर्व मनाया जाता है। हजरत मुहम्मद सल्ल. ने ही इस्लाम धर्म की स्थापना की है और ये इस्लाम के आखिरी नबी हैं, आपके बाद अब कायामत तक कोई नबी नहीं आएंगे। घरों, मस्जिदों में मिलाद की महफिल, कुरआन ख्वानी, फातिहा ख्वानी, नात ख्वानी शुरू हो चुकी है। मस्जिदों और दरगाहों को फूलों, झालरों, गुब्बारों आदि से सजाया गया है। शहर की तमाम मस्जिदों पर परचम कुशाई होगी। हालांकि इस दिन को लेकर मुस्लिम समाज में अलग-अलग मत है। कुछ मुस्लिम समाज के लोग इस दिन को शोक दिवस के तौर रूप में मनाते तो वहीं कई लोग इस दिन को बड़े धूम-धाम से भी मनाते हैं।
 

whatsapp mail