नजरें राष्ट्रीय चैंपियनशिप का खिताब जीतने पर टिकी हैं: प्रणीत

img

गुवाहाटी
बीडल्यूएफ के व्यस्त कैलेंडर के कारण पिछले साल साई प्रणीत की फिटनेस पर असर पड़ा लेकिन इस भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी ने कहा कि ओलंपिक क्वालीफिकेशन वर्ष में वह अपने टूर्नामेंटों का चयन सतर्कता के साथ करेंगे और अगले महीने आल इंग्लैंड चैंपियनशिप की तैयारी के लिए उनकी नजरें राष्ट्रीय चैंपियनशिप का खिताब जीतने पर टिकी हैं।गत चैंपियन एचएस प्रणय और उप विजेता किदांबी श्रीकांत के फिटनेस मुद्दों के कारण हटने के बाद पूर्व चैंपियन प्रणीत मंगलवार को यहां क्वालीफायर के साथ शुरू हुई 83वीं सीनियर राष्ट्रीय चैंपियनशिप में खिताब के प्रबल दावेदारों में शामिल हैं। प्रणीत ने कहा,''पिछले सत्र में मुझे अपनी फिटनेस और आत्मविश्वास को लेकर जूझना पड़ा क्योंकि काफी सारे टूर्नामेंट थे। इसलिए मैं फिटनेस को बरकरार नहीं रख पाया। जून से दिसंबर तक मैं लगातार खेलता रहा,इसलिए यह सब फिटनेस से जुड़ा है। अब मैं ठीक हूं और भाग्य से कोई चोट नहीं है। इस साल स्विस ओपन में भी खेलने वाले प्रणीत ने कहा,'मैं अगले महीने होने वाले आल इंग्लैंड को लेकर उत्सुक हूं और राष्ट्रीय चैंपियनशिप तैयारी के लिए अच्छा मैच अभ्यास होगा। अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंटों से पहले इससे आत्मविश्वास में मदद मिलेगी। इसे जीतने के लिए आपको भारत के सभी शीर्ष खिलाडिय़ों को हराना होगा और यह आसान नहीं है क्योंकि सभी काफी अच्छा खेल रहे हैं। ओलंपिक क्वालीफिकेशन समय 29 अप्रैल 2019 से 26 अप्रैल 2020 होगा और 30 अप्रैल को जारी होने वाली बीडब्ल्यूएफ रैंकिंग से तय होगा कि किस खिलाड़ी को तोक्यो खेलों में जगह मिलेगी। विश्व रैंकिंग में 26वें स्थान पर काबिज प्रणीत ने कहा कि ओलंपिक का टिकट हासिल करने के लिए उन्हें कुछ भाग्य और लगातार अच्छे प्रदर्शन की जरूरत होगी। भारतीय बैडमिंटन संघ (बीएआई) ने ओलंपिक से पहले खिलाडिय़ों के साथ काम करने के लिए दो कोरियाई कोचों किम जी ह्युन और पार्क तेइ सेंग को नियुक्त किया है। हैदराबाद के 26 साल के प्रणीत ने कहा कि वह विदेशी कोचों के साथ काम करने के लिए उत्सुक हैं।

whatsapp mail