वल्र्ड बॉक्सिंग चैंपियनशिप : अमित पंघाल ने फाइनल में पहुंच रचा इतिहास, मनीष को ब्रॉन्ज

img

एकातेरिबर्ग (रूस)
भारत के स्टार मुक्केबाज अमित पंघाल ने शुक्रवार को इतिहास रच दिया। वह वर्ल्ड बॉक्सिंग चैंपियनशिप के फाइनल में पहुंचने वाले पहले भारतीय पुरुष बॉक्सर बन गए हैं। रूस के एकातेरिनबर्ग में हुए मुकाबले में उन्होंने कजाखस्तान के साकेन बिबोसिनोव को 3-2 से हराया। वहीं, अन्य भारतीय मनीष कुमार को ब्रॉन्ज मेडल से संतोष करना पड़ा। उन्हें पुरुषों के 63 किलोग्राम भारवर्ग के सेमीफाइनल में क्यूबा के एंडी गोमेज ने हराया। एशियन गेम्स के गोल्ड मेडलिस्ट पंघाल (52 किलोग्राम) भारवर्ग के खिताबी मुकाबले में प्रवेश किया। यह इस टूर्नमेंट के इतिहास में भारत का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है। पहली बार इस टूर्नमेंट में भारतीय मुक्केबाज दो पदक जीत रहे हैं। दूसरी वरीयता प्राप्त पंघाल के नाम कॉमनवेल्थ गेम्स में सिल्वर मेडल भी है। पंघाल ने कजाक मुक्केबाज को बंटे हुए फैसले में हराया। बिबोसिनोव ने यूरोपियन गोल्ड मेडलिस्ट अरमेनिया के छठी वरीयता प्राप्त अर्तर होवह्नस्यान को हराकर अंतिम चार में जगह बनाई थी। फाइनल में अमित का मुकाबला उज्बेकिस्तान के शाखोबद्दीन जोइरोव से होगा। जोइरोव इस भारवर्ग में ओलिंपिक चैंपिनयन है। जोइरोव ने फ्रांस के बिलाल बेनामा को 5-0 से हारकर फाइनल में जगह बनाई है। भारतीय मुक्केबाज पिछले वर्ल्ड चैंपियनशिप के क्वॉर्टर फाइनल में पहुंचे थे। भारतीय पुरुष मुक्केबाजों ने इस वर्ल्ड चैंपियनशिप में अभी तक सिर्फ चार ब्रॉन्ज मेडल ही हासिल किए थे। भारत की ओर से विजेंदर सिंह (2009), विकास कृष्ण (2011), शिवा थापा (2015) और गौरव विधुड़ी (2017) में ब्रॉन्ड मेडल जीते हैं।

whatsapp mail