पुरुष मुक्केबाज के साथ ट्रेनिंग करने से भी नहीं चूकेंगी मैरीकोम

img

खेल डेस्क
छह बार की विश्व चैंपियन मुक्केबाज एमसी मैरीकोम को अगर ट्रेनिंग के लिए महिलाओं में से कोई अच्छा जोड़ीदार नहीं मिला तो वह छह साल बाद फिर से लंबे कद के पुरूष मुक्केबाज के साथ ट्रेनिंग करने के बारे में विचार करेंगी। ओलंपिक पदकधारी मुक्केबाज ने बुधवार को कहा कि विश्व चैंपियनशिप के 48 किग्रा वर्ग में उन्हें कोई कड़ी प्रतिद्वंद्वी नहीं मिली, जिसमें वह छठी बार विश्व चैंपियन बनीं। मैकोमरी ने कहा, ट्रेनिंग के लिये जोड़ीदार ढूंढना भी मुश्किल है। हमारे पास इतने जोड़ीदार नहीं हैं, इससे मदद नहीं मिलती। दिल्ली में विश्व चैंपियनशिप के बाद जिन्हें मौका नहीं मिला, वे चली गयीं। कुछ ही बची हैं। अगर मेरी ट्रेनिंग अच्छी नहीं होती है तो मैं ट्रेनिंग के लिये लंबे कद के मुक्केबाजों को रखूंगी और उनके साथ अभ्यास करूंगी। पिछली बार 2012 लंदन ओलंपिक में मैंने पुणे के बालेवाड़ी में ऐसा ही किया था। लंदन ओलंपिक में कांस्य पदक जीतने वाली यह मुक्केबाज इंडियन फेडरेशन ऑफ स्पोट्र्स गेमिंग के स्टार्स ऑफ टूमॉरो अभियान लांच करने के बाद पत्रकारों से रूबरू हुईं। इस मणिपुरी मुक्केबाज की निगाहें 2020 तोक्यो ओलंपिक में पदक जीतने पर लगी हैं जिसके लिये उन्होंने अभी से 51 किग्रा वजन वर्ग की अपनी प्रतिद्वंद्वियों के वीडियो देखना शुरू कर दिया है। मैरीकोम ने कहा, विश्व चैंपियनशिप के दौरान मैंने 51 किग्रा में खेल रही मुक्केबाजों को भी देखा। कुछ को क्वालीफिकेशन में ही परेशानी हुई। अन्य सामान्य थीं। मैंने सभी वीडियो तैयार किये हैं और इसके अनुसार ही तैयारी करूंगी।

whatsapp mail