युवा मुक्केबाज सबसे बड़ी चुनौती, लेकिन मैं तैयार हूं : मेरीकोम

img

नई दिल्ली
विश्व चैंपियनशिप में छठा स्वर्ण पदक जीतने की कवायद में लगी मशहूर मुक्केबाज एमसी मेरीकोम ने कहा कि वह युवा मुक्केबाजों की कड़ी चुनौती से पार पाने के लिये अपने अनुभव और ऊर्जा का इस्तेमाल करेगी। पैंतीस वर्षीय मेरीकोम बुधवार से यहां शुरू होने वाली विश्व मुक्केबाजी चैंपियनशिप में सातवीं बार हिस्सा लेगी। वह पांच बार की विश्व चैंपियन, ओलंपिक कांस्य पदक विजेता और एशियाई खेलों की स्वर्ण पदक विजेता के रूप में रिंग पर उतरेगी। मेरीकोम ने टूर्नामेंट से पहले पत्रकारों से कहा, मेरे वर्ग में ऐसी मुक्केबाज हैं जो 2001 से अब भी खेल रही हैं। मैं उन्हें अच्छी तरह से जानती हूं। नये मुक्केबाज अधिक दमदार और स्मार्ट हैं और वे चपल भी हैं। मैं अपने अनुभव का इस्तेमाल करूंगी। पुराने मुक्केबाज अधिकतर एक जैसे हैं और मैं उन्हें जानती हूं। उन्होंने कहा, मुझे तीन राउंड तक खेलने के लिये ऊर्जावान बने रहने होगा। यह केवल एक राउंड का मामला नहीं है और इसलिए हमें उस हिसाब से रणनीति बनानी होगी। बारह देशों के मुक्केबाज टूर्नामेंट शुरू होने से सात दिन पहले ही यहां पहुंच गये थे।

whatsapp mail