गौतम ने 11 साल तक मन में दबाए रखा गंभीर राज, क्या जानना नहीं चाहेंगे

img

दो विश्व कप (2007, 2011) के फाइनल में अपनी यादगार पारियों से टीम इंडिया को जीत का खिताब दिलाने वाले बाएं हाथ के बल्लेबाज गौतम गंभीर ने गत बुधवार को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह दिया। क्रिकेट से संन्यास लेने के एक दिन बाद यानी गुरुवार को उन्होंने एक इंटरव्यू में उन्होंने 11 साल पुरानी बातों को साझा किया, जिसका मलाल उन्हें आज भी है और आप भी ये बातें सुनकर थोड़ा भावुक जरूर होने पर मजबूर होंगे। आइए जानते हैं गौतम ने इंटरव्यू में 11 साल पुरामी कौन सी बातें साझा की है। 
गौतम गंभीर ने इंटरव्यू में कहा, 2007 शायद मेरे करियर में सबसे खराब क्षणों में से एक था, क्योंकि मैं वेस्टइंडीज के 50 ओवर के विश्वकप में जगह पाने से चूक गया था। मुझे वहां बैठे हुए, ऐसा लग रहा था कि मुझे उस विश्व कप का हिस्सा होना चाहिए था, मैं सिलेक्ट होने के बहुत करीब था। मुझे लगा कि मेरा बचपन का सपना कभी सच नहीं होगा, क्योंकि उस समय तक टी-20 विश्व कप की कल्पना नहीं हुई थी। मुझे याद है कि यह फरवरी का महीना था, मैं टीम में चयन होने से चूक गया और मैंने दो महीने तक बल्ला नहीं पकड़ा। आगे उन्होंने कहा, वो साल मुझे बहुत कुछ सिखाया। कितनी जल्दी कुछ चीजें बदल जाती हैं। फरवरी मैं डंप में था और फिर सितंबर में मैं विजेता विश्वकप टीम का हिस्सा बन गया। 5-6 महीने की अवधि में, सब कुछ पूरी तरह से बदल गया, जिसने मुझे बहुत सारी चीजें सिखाई। यह मेरे क्रिकेट करियर में सबसे बड़ा सीखने का सबक था।
 

whatsapp mail