उतार चढ़ाव वाले दिन पर भारत पर हल्का भारी रहा आस्ट्रेलिया

img

पर्थ
सलामी जोड़ी से मिली बेहतरीन शुरूआत से आस्ट्रेलिया ने नये नवेले ऑप्टस स्टेडियम की बहुचर्चित पिच पर दूसरे टेस्ट क्रिकेट मैच के पहले दिन शुक्रवार को यहां भारत के सामने अपना पलड़ा हल्का भारी रखा। पहले दिन का खेल उतार चढ़ाव वाला रहा लेकिन आस्ट्रेलिया छह विकेट पर 277 रन का स्कोर बनाकर खुद को बेहतर स्थिति में महसूस कर रहा होगा। भारत के तेज गेंदबाज अपने प्रदर्शन से निश्चित तौर पर संतुष्ट नहीं होंगे क्योंकि दिन भर में वे केवल चार विकेट ही ले पाये। खेल का पलड़ा दिन भर में इधर उधर झुकता रहा। पहले तीन घंटे आस्ट्रेलिया के नाम रहे जिसमें मार्कस हैरिस (70) और आरोन फिंच (50) ने पहले विकेट के लिये 112 रन जोड़े। इसके बाद भारत ने 36 रन के अंदर चार विकेट निकाले जिनमें इन दोनों के अलावा उस्मान ख्वाजा (पांच) और पीटर हैंड्सकांब (सात) के विकेट भी शामिल थे। ट्रेविस हेड (58) और शान मार्श (45) ने फिर 23 ओवर तक विकेट नहीं गिरने दिया और इस बीच 84 रन जोड़े। ये दोनों 19 रन के अंदर पवेलियन लौट गये लेकिन इसके बाद कप्तान टिम पेन (नाबाद 16) और पैट कमिन्स (नाबाद 11) ने दिन के आखिरी आठ ओवर में कोई विकेट नहीं गिरने दिया। पर्थ के ऑप्टस स्टेडियम की पिच पर घास को लेकर पिछले कुछ दिनों से काफी चर्चाएं हो रही थी जिनसे लग रहा था कि यह तेज गेंदबाजों को बेहद रास आएगी। यही वजह थी कि भारत चार तेज गेंदबाजों के साथ उतरा लेकिन कामचलाऊ स्पिनर हनुमा विहारी पहले दिन उसके सबसे सफल गेंदबाजों में शामिल रहे। विहारी ने 53 रन देकर दो विकेट लिये। इशांत शर्मा (35 रन देकर दो) ने भी दो विकेट हासिल किये जबकि जसप्रीत बुमराह और उमेश यादव को एक एक विकेट मिला। मोहम्मद शमी पहले सत्र में अच्छी गेंदबाजी करने के बावजूद विकेट लेने में नाकाम रहे। आस्ट्रेलिया जब टास जीतकर पहले बल्लेबाजी के लिये उतरा तो भारतीय गेंदबाज पहले सत्र में परिस्थितयों का फायदा नहीं उठा पाये। इसकी एक वजह यह भी रही कि इशांत ने नोबाल नहीं करने पर ध्यान दिया जिससे उनका अपनी गेंदों पर नियंत्रण नहीं रहा। बुमराह को शार्ट पिच गेंदें करने का फायदा नहीं मिला। शमी ने दूसरे घंटे में जरूर प्रभाव छोड़ा लेकिन फिंच और हैरिस ने लगभग तीन घंटे तक भारतीयों को पहली सफलता से महरूम रखा। लंच के बाद पहले घंटे में भी गेंदबाजों की नहीं चली। इस बीच शमी ने भी रन लुटाये लेकिन दूसरे घंटे के बाद एकदम से कहानी बदल गयी। भारत ने जल्दी जल्दी चार विकेट निकालकर वापसी की। बुमराह और उमेश ने लंच के बाद दूसरे घंटे में कसी हुई गेंदबाजी की जबकि विहारी भी खुद पर दिखाये गये विश्वास पर खरे उतरे। हैरिस ने लंच के बाद 90 गेंदों पर अपने टेस्ट करियर का पहला अर्धशतक पूरा किया। पहले सत्र में डीआरएस रिव्यू से बचने वाले फिंच ने भी 103 गेंदों पर अपना दूसरा टेस्ट अर्धशतक पूरा किया, लेकिन इसके बाद बुमराह ने उन्हें फुललेंथ गेंद पर पगबाधा आउट करके भारत को पहली सफलता दिलायी। इसके तुरंत बाद केएल राहुल ने शमी की गेंद पर हैरिस का कैच छोड़ा। हैरिस उस समय 60 रन पर खेल रहे थे। राहुल दूसरी स्लिप में सही समय पर कैच लेने के लिये नहीं उछले और गेंद उनके हाथ से लगकर सीमा रेखा पार चली गयी। भारत को उनकी यह गलती महंगी नहीं पड़ी। विहारी की आश्चर्यजनक रूप से अतिरिक्त उछाल लेती गेंद पर हैरिस ने स्लिप में अजिंक्य रहाणे को कैच थमा दिया। इस बीच उमेश ने लगातार बनाये गये दबाव का लाभ उठाया और उस्मान ख्वाजा (पांच) की संघर्षपूर्ण पारी का अंत किया। हैरिस ने 141 गेंदें खेलकर दस चौके और फिंच ने 105 गेंदों की पारी में छह चौके लगाये। इशांत ने चाय के विश्राम के बाद अपनी पहली गेंद पर ही पीटर हैंड्सकांब (सात) को पवेलियन भेज दिया लेकिन इसके लिये कप्तान विराट कोहली की दाद देनी होगी जिन्होंने एक हाथ से कैच लेकर टीम को महत्वपूर्ण सफलता दिलायी। मार्श और हेड ने इसके बाद बिना किसी हड़बड़ाहट के रन बटोरे और 69वें ओवर में टीम का स्कोर 200 रन के पार पहुंचाया। भारत को इनकी साझेदारी तोडऩे का पहला मौका 67वें ओवर में मिला था लेकिन तब विहारी की गेंद पर पंत मार्श का आसान कैच नहीं ले पाये। बायें हाथ का यह बल्लेबाज तक 24 रन पर था। मार्श इसके बाद अपने स्कोर में 21 रन ही जोड़ पाये और उनका विकेट विहारी को ही मिला। मार्श ने उनकी उछाल लेती गेंद कट करनी चाही लेकिन वह बल्ले के ऊपरी हिस्से से लगकर पहली स्लिप में रहाणे के सुरक्षित हाथों में पहुंच गयी, जिन्होंने एक और बेहतरीन कैच अपने नाम लिखवाया। हेड भी अपना तीसरा अर्धशतक पूरा करने के बाद ज्यादा देर नहीं टिक पाये। भारत ने 81 ओवर के बाद नयी गेंद ली और इशांत ने इसका फायदा उठाकर हेड को ढीला शाट खेलने और डीप थर्ड मैन पर आसान कैच देने के लिये मजबूर किया। हेड ने अपनी 80 गेंद की पारी में छह चौके लगाये। आस्ट्रेलिया ने अपनी टीम में कोई बदलाव नहीं किया लेकिन भारत चार तेज गेंदबाजों के साथ उतरा। रोहित शर्मा और आर अश्विन की जगह विहारी और उमेश को अंतिम एकादश में रखा गया। भारत एडीलेड में पहला टेस्ट मैच 31 रन से जीतकर चार मैचों की श्रृंखला में 1-0 से आगे चल रहा है।

whatsapp mail