श्रृंखला जीतने के इरादे से उतरेगा भारत, हार्दिक पर रहेंगी नजरें

img

माउंट मोनगानुई
भारतीय कप्तान विराट कोहली ब्रेक से पहले न्यूजीलैंड के खिलाफ सोमवार को यहां होने वाले तीसरे एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैच में जीत के साथ पांच मैचों की श्रृंखला में विजयी बढ़त हासिल करने के इरादे से उतरेंगे। बीसीसीआई ने कोहली के बोझ को कम करने के लिए भारतीय कप्तान को तीसरे एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैच के बाद आराम दिया है और वह चाहेंगे कि आस्ट्रेलिया में पहली बार टेस्ट और एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय द्विपक्षीय श्रृंखला जीतने के बाद वह अपने अभियान का अंत जीत के साथ करें। भारत अगर कल जीत के साथ 3-0 की विजयी बढ़त हासिल कर लेता है तो यह 2014 में न्यूजीलैंड में हुई सीमित ओवरों की श्रृंखला में हार का बदला होगा जब टीम इंडिया ने श्रृंखला 0-4 से गंवाई थी। सभी की नजरें तीसरे एकदिवसीय की टीम में हार्दिक पंड्या को शामिल करने पर टिकी होंगी।टीवी शो पर महिलाओं के प्रति विवादास्पद टिप्पणी के बाद हार्दिक को अस्थाई निलंबन का सामना करना पड़ा था जिसके बाद यह आलराउंडर टीम में वापसी कर रहा है। कप्तानी कोहली ने स्वीकार किया है कि हार्दिक की मौजूदगी टीम को मजबूती और संतुलन देती है। हार्दिक के विकल्प विजय शंकर उपयोगी क्रिकेटर हैं लेकिन उनमें बड़ौदा के आलराउंडर जैसा 'एक्स फेक्टर' नहीं है। विजय शंकर को दूसरे एकदिवसीय मैच में सिर्फ दो ओवर गेंदबाजी दी गई जो दर्शाता है कि वह अब भी अतिरिक्त जिम्मेदारी लेने के लिए तैयार नहीं हैं। विजय शंकर की तुलना में हार्दिक तेज गति से गेंदबाजी कर सकते हैं। विजय शंकर जिन तीन वनडे मैचों में खेले उनमें वह अपनी गेंदबाजी से बल्लेबाजों को छकाने में नाकाम रहे।पंड्या छठे नंबर पर बल्लेबाजी करने में सक्षम हैं और बीच के ओवरों में रन जुटाने में उनकी भूमिका अहम हो सकती है जैसा कि कप्तान चाहते हैं। भारतीय टीम में इसके अलावा अधिक बदलाव की जरूरत नहीं नजर आती। दूसरी तरफ न्यूजीलैंड की टीम कुलदीप यादव और युजवेंद्र चहल की भारत की कलाई की स्पिन जोड़ी के सामने अब तक पस्त नजर आई है। इन दोनों ने पहले दो वनडे में 20 में से 12 विकेट चटकाए हैं।
 
कुलदीप अधिक घातक नजर आए और पहले दो वनडे में आठ विकेट हासिल कर चुके हैं। उन्होंने दोनों मैचों में चार-चार जबकि चहल ने दो-दो विकेट चटकाए। तेज गेंदबाजों भुवनेश्वर कुमार और मोहम्मद शमी ने भी अच्छा प्रदर्शन किया है और टीम के लिए अहम मौकों पर विकेट हासिल किए हैं। भारतीय बल्लेबाजों ने दोनों मैचों में गेंदबाजों का अच्छा साथ निभाया। शिखर धवन की फार्म में वापसी से भारत के शीर्ष क्रम को मजबूती मिली है। धवन ने पहले वनडे में नाबाद 75 जबकि दूसरे मैच में 67 गेंद में 66 रन की पारी खेली। पहले वनडे में विफल रहे उप कप्तान रोहित शर्मा ने दूसरे मैच में 87 रन की पारी खेली और अपने सलामी जोड़ीदार धवन के साथ 14वीं बार शतकीय साझेदारी की। कप्तान कोहली भी दोनों मैचों में अच्छी लय में दिखे जबकि अंबाती रायुडू ने शनिवार को दूसरे वनडे में 49 गेंद में 47 रन की पारी खेली। अनुभवी महेंद्र सिंह धोनी ने अपनी अच्छी फार्म को आगे बढ़ाते हुए दूसरे वनडे में 33 गेंद में नाबाद 48 रन बनाकर भारत का स्कोर 300 रन के पार पहुंचाने में अहम भूमिका निभाई जबकि केदार जाधव ने फिनिशर की भूमिका निभाई।
टीम की बल्लेबाजी मजबूत नजर आ रही है लेकिन पांचवां गेंदबाज मेहमान टीम के लिए कुछ चिंता पैदा कर सकता है और यहीं हार्दिक की भूमिका अहम हो सकती है। भारत ने विश्व कप से पूर्व अपने मध्यक्रम को अंतिम रूप नहीं दिया है। तीसरे वनडे के बाद जब कोहली ब्रेक लेंगे तो दिनेश कार्तिक को कप्तान की गैरमौजूदगी में मध्यक्रम में जगह मिल सकती है। टीम प्रबंधन शुभमन गिल को भारत की ओर से पदार्पण करने का मौका भी दे सकता है। न्यूजीलैंड के लिए कप्तान केन विलियमसन पहले वनडे में शीर्ष स्कोरर रहे जबकि दूसरे मैच में क्रीज पर संक्षिप्त समय बिताने के दौरान लय में नजर आए। आलराउंडर डग ब्रेसवेल ने 46 गेंद में 57 रन की पारी खेलकर हार के अंतर को कम किया लेकिन टीम का अन्य कोई बल्लेबाज अच्छी शुरुआत को बड़ी पारी में नहीं बदल पाया।

टीमें : 
भारत : विराट कोहली (कप्तान), रोहित शर्मा, शिखर धवन, महेंद्र सिंह धोनी, केदार जाधव, दिनेश कार्तिक, विजय शंकर, शुभमन गिल, युजवेंद्र चहल, कुलदीप यादव, मोहम्मद शमी, भुवनेश्वर कुमार, मोहम्मद सिराज, खलील अहमद, रविंद्र जडेजा और हार्दिक पंड्या । 
 
न्यूजीलैंड : केन विलियमसन (कप्तान), रोस टेलर, टाम लैथम, मार्टिन गुप्टिल, कोलिन डि ग्रैंडहोम, ट्रेंट बोल्ट, हेनरी निकोल्स, डग ब्रसवेल, लोकी फग्युर्सन, मैट हेनरी, कोलिन मुनरो, ईश सोढी, मिशेल सेंटनर और टिम साउथी।

whatsapp mail