पुजारा को छोड़कर ऑस्ट्रेलियाई आक्रमण के सामने धराशायी हुए भारतीय बल्लेबाज

img

एडीलेड
शतकवीर चेतेश्वर पुजारा के अलावा भारत का कोई भी बल्लेबाज पहले क्रिकेट टेस्ट के शुरूआती दिन आस्ट्रेलियाई गेंदबाजों का सामना नहीं कर सका और 'कमजोर' कही जा रही मेजबान टीम ने उसके नौ विकेट 250 रन पर उखाड़ दिये। आस्ट्रेलियाई सरजमीं पर पहली बार टेस्ट श्रृंखला जीतने के इरादे से आई भारतीय टीम को पहले ही दिन अहसास हो गया कि यह चुनौती उसके लिये टेढ़ी खीर है। स्टीव स्मिथ और डेविड वार्नर की गैर मौजूदगी में कमजोर मानी जा रही आस्ट्रेलियाई टीम के गेंदबाजों ने दुनिया के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाजी क्रम की चूलें हिलाकर दिखा दिया कि उसे उसकी धरती पर हराना इतना कठिन क्यों है। एडीलेड ओवल की सपाट पिच पर भारत के लिये राहत का सबब पुजारा की शतकीय पारी रही जिन्होंने 246 गेंद में सात चौकों और दो छक्कों की मदद से 123 रन बनाये। वह दिन की आखिरी गेंद पर रन आउट हुए। अपना 16वां टेस्ट शतक जमाने वाले पुजारा ने एक छोर नहीं संभाला होता तो भारतीय टीम 200 रन तक भी नहीं पहुंच पाती। पुजारा ने इसके साथ ही टेस्ट क्रिकेट में 5000 रन भी पूरे कर लिये। आस्ट्रेलिया के लिये मिशेल स्टार्क, जोश हेजलवुड, पैट कमिंस और नाथन लियोन ने दो दो विकेट लिये। आस्ट्रेलियाई गेंदबाजों ने तो अपना काम किया है लेकिन भारत के शीर्षक्रम के बल्लेबाजों ने भी गैर जिम्मेदाराना शाट खेलकर उनकी मदद करने में कोई कसर नहीं छोड़ी। इसके अलावा आस्ट्रेलिया की फील्डिंग और कैचिंग जबर्दस्त रही, खासकर विराट कोहली का उस्मान ख्वाजा ने दर्शनीय कैच लपका। आस्ट्रेलियाई गेंदबाज इस कदर सटीक थे कि पूरे 87-5 ओवर में उन्होंने मात्र एक अतिरिक्त रन लेगबाय के रूप में दिया। भारत ने टास जीतकर बल्लेबाजी का फैसला किया। हनुमा विहारी को बाहर रखकर छठे बल्लेबाज के तौर पर रोहित शर्मा को टीम में जगह दी गई। आस्ट्रेलियाई टीम के लिये मार्कस हैरिस ने टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण किया। भारत ने लंच तक चार विकेट 56 रन पर गंवा दिये थे। जोश हेजलवुड ने 28 रन देकर दो विकेट लिये और आस्ट्रेलियाई तेज गेंदबाजों ने नयी कूकाबूरा गेंद से नियमित अंतराल पर विकेट चटकाये। पहले सत्र के 27 ओवर में भारतीय शीर्षक्रम क्रीज पर पैर जमा ही नहीं सका। दोनों सलामी बल्लेबाजों में से केएल राहुल (दो) के पास आस्ट्रेलियाई गेंदबाजों की रफ्तार का कोई जवाब नहीं था। वह दूसरे ओवर में गैर जिम्मेदाराना शाट खेलकर तीसरी स्लिप में हेजलवुड को कैच दे बैठे। मुरली विजय (11) बेहतर दिख रहे थे लेकिन रनगति बढाने के प्रयास में विकेट गंवा बैठे। सातवें ओवर में विजय ने स्टार्क को कवर ड्राइव लगाने की कोशिश की लेकिन चूके और विकेट के पीछे टिम पेन को कैच दे दिया। इसके बाद कप्तान विराट कोहली क्रीज पर आये जो आत्मविश्वास से भरे दिखे। वह भी हालांकि कोई कमाल नहीं कर पाये और पैट कमिंस की गेंद पर उस्मान ख्वाजा ने अपनी बायीं ओर डाइव लगाकर उनका शानदार कैच लपका। उस समय भारत का स्कोर 11 ओवर में तीन विकेट पर 19 रन था। पुजारा और अजिंक्य रहाणे (13) ने 59 गेंदों में 22 रन जोड़े। रहाणे को नाथन लियोन को खेलने में काफी दिक्कत हुई जो ड्रिंक्स ब्रेक के बाद गेंदबाजी के लिये आये। रहाणे ने लियोन को उसके दूसरे ओवर में लांग आन पर छक्का लगाया।

whatsapp mail