कोहली ने दिया भारतीय क्रिकेट का मजाक उड़ाने वाले ओकीफी को करारा जवाब

img

मेलबर्न
विराट कोहली ने जसप्रीत बुमराह जैसे खतरनाक गेंदबाज के उभरने का श्रेय भारत के 'शानदार घरेलू क्रिकेट ढांचे' को दिया जो ऑस्ट्रेलिया के पूर्व क्रिकेटरों कैरी ओकीफी और मार्क वॉ को माकूल जवाब है जिन्होंने कमेंट्री करते हुए अपमानजनक टिप्पणियां की थी। भारतीय कप्तान ने बिना किसी का नाम लिए कहा, 'हमारा फस्र्ट क्लास क्रिकेट ढांचा बेहतरीन है और यही कारण है कि हम जीत रहे हैं। इसका श्रेय भारत में प्रथम श्रेणी ढांचे को जाता है, जो भारत में हमारे तेज गेंदबाजों को चुनौती देता है और इससे उन्हें विदेशों में अच्छा प्रदर्शन करने में मदद मिलती है। लेकिन यह स्पष्ट था कि विराट कोहली की प्रतिक्रिया पूर्व लेग स्पिनर ओकीफी के लिए थी। यहां तक कि 'मैन ऑफ द मैच' जसप्रीत बुमराह (मैच में 86 रन देकर नौ विकेट) ने भी टेस्ट क्रिकेट में अपनी सफलता में रणजी ट्रॉफी के योगदान का जिक्र किया। बुमराह ने कहा, 'हम कड़ी ट्रेनिंग करते हैं और हमें रणजी ट्रॉफी में काफी ओवर गेंदबाजी करने की आदत है इसलिए शरीर इसके लिए तैयार रहता है। बता दें कि इस सब की शुरुआत ओकीफी ने पदार्पण कर रहे मयंक अग्रवाल के प्रथम श्रेणी में रेलवे के खिलाफ तिहरे शतक पर टिप्पणी करके की थी। ऑस्ट्रेलिया के लिए 24 टेस्ट में 53 विकेट चटकाने वाले ओकीफी ने फॉक्स स्पोर्ट्स पर कमेंट्री करते हुए कहा था, 'संभवत: उन्होंने रेलवे के कैंटीन स्टाफ के खिलाफ शतक जड़ा। विराट कोहली ने दी दुनियाभर के बल्लेबाजों को चेतावनी, बुमराह से डरने की जरूरत मार्क वॉ ने भी कहा था कि किस तरह भारत में घरेलू क्रिकेट में 50 रन का औसत ऑस्ट्रेलिया में 40 के औसत के बराबर है। ओकीफी ने हालांकि बाद में अपनी टिप्पणी के लिए माफी मांगी थी। भारतीय कोच रवि शास्त्री ने भी पदार्पण पारी में अग्रवाल के 76 रन बनाने के बाद माकूल जवाब दिया। ओकीफी की मौजूदगी में फॉक्स स्पोर्ट्स को दिए इंटरव्यू में शास्त्री ने कहा था, ''उनके (अग्रवाल) पास कैरी के लिए संदेश है। जब आप अपनी कैंटीन खोलो तो वह काफी को सूंघने के लिए आना चाहता है। वह भारत की काफी से तुलना करना चाहता है। यहां की काफी बेहतर है या भारत की। ओकीफी ने हालांकि मैच के चौथे दिन भी गैरजरूरी टिप्पणी की जब उन्होंने चेतेश्वर पुजारा और रवींद्र जडेजा के नाम नहीं बोल पाने का मजाक बनाया। ओकीफी ने कहा, ''आप अपने बच्चों का नाम चेतेश्वर, जडेजा क्यों रखते हो।

whatsapp mail