भारतीय टीम से मिली हार पर बोले पैट कमिंस, कोहली की पारी ने अंतर पैदा किया

img

नागपुर
आस्ट्रेलिया के तेज गेंदबाज पैट कमिंस ने कहा है कि भारतीय कप्तान विराट कोहली की 116 रन की पारी ने दोनों टीमों के बीच मंगलवार को यहां हुए दूसरे एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैच में अंतर पैदा किया। इस मैच को मेजबान टीम ने आठ रन से जीतकर पांच मैचों की श्रृंखला में 2-0 की बढ़त बनाई। कोहली के 40वें एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय शतक से भारत मध्यक्रम की नाकामी के बावजूद 250 रन का प्रतिस्पर्धी स्कोर खड़ा करने में सफल रहा। इसके बाद भारतीय गेंदबाजों विशेषकर जसप्रीत बुमराह (29 रन पर दो विकेट) और विजय शंकर (15 रन पर दो विकेट) ने डेथ ओवरों में धैर्य बरकरार रखते हुए आस्ट्रेलिया को 242 रन पर समेट दिया। आस्ट्रेलिया के लिए 29 रन देकर चार विकेट चटकाने वाले कमिंस ने मैच के बाद कहा, 'मुझे लगता है कि निश्चित तौर पर उसने (कोहली ने) अंतर पैदा किया। हमारे लिए कुछ अच्छी साझेदारियां हुईं, मार्कस स्टोइनिस ने 50 से अधिक रन बनाए, कुछ खिलाडिय़ों ने काफी अच्छी शुरूआत की लेकिन हमारे पास वह एक खिलाड़ी नहीं था जो अंत तक टिका रहता। उन्होंने कहा, 'इसलिए उनके पास अंत तक विराट जैसे खिलाड़ी का होना अहम रहा जिसने काफी गेंद खेली, वह संभवत: उनके 200 के करीब रहने या 250 तक पहुंचने के बीच का अंतर रहा। उसने अपनी पारी के दौरान कोई मौका नहीं दिया। कमिंस ने कहा, 'उसने सिर्फ अच्छे शाट खेले। मुझे लगता है कि अधिकांश समय हमने उसे काफी अच्छी गेंदबाजी की लेकिन उसने इस पिच पर जिस तरह स्पिन का सामना किया उसने अंतर पैदा किया क्योंकि इसे खेलना काफी मुश्किल लग रहा था। पच्चीस साल के इस तेज गेंदबाज ने कहा कि कोहली इस समय अपने खेल के पूरी तरह नियंत्रण में लग रहा है। लेकिन उसने (कोहली ने) खूबसूरत बल्लेबाजी की, उसने कोई मौका नहीं दिया। ऐसा लगा कि उसके पास इतना अधिक समय है। अगर कोई अच्छी गेंदबाजी कर रहा है तो वह इंतजार करने और बाद में फायदा उठाने को तैयार रहता है। वह खराब गेंदों को सबक सिखाने से नहीं चूकता। कमिंस ने कहा कि उनकी टीम के लिए इस मैच में काफी सकारात्मक पक्ष रहे और वह अपने प्रदर्शन से संतुष्ट हैं। उन्होंने कहा, 'मुझे नयी गेंद से गेंदबाजी करना पसंद है, विशेषकर एकदिवसीय क्रिकेट में इस तरह की पिचों पर, यहां गेंद काफी तेजी से पुरानी होती है। इसलिए मुझे गेंद के कोमल होने से पहले नयी गेंद से स्विंग, तेज गति और उछाल से गेंद कराने की कोशिश करना पसंद है। टी20 में लगातार पांच हार के क्रम को तोडऩे उतरेगी भारतीय महिला टीम
गुवाहाटी। भारतीय महिला क्रिकेट टीम इंग्लैंड के खिलाफ गुरुवार को यहां होने वाले दूसरे टी20 अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैच में लगातार पांच हार के क्रम को तोडऩे का प्रयास करेगी। भारत को रविवार को यहां तीन मैचों की श्रृंखला के पहले टी20 अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैच में इंग्लैंड के खिलाफ 41 रन की हार का सामना करना पड़ा था। सबसे छोटे प्रारूप में भारत की लगातार पांचवीं हार का मतलब है कि डब्ल्यूवी रमन के मार्गदर्शन में खेलने वाली टीम को अगले साल की शुरुआत में आस्ट्रेलिया में होने वाले टी20 विश्व कप से पहले अपने प्रदर्शन में काफी सुधार करना होगा। भारत ने न्यूजीलैंड में एकदिवसीय श्रृंखला जीतने के बाद तीनों टी20 मुकाबले गंवा दिए थे और अब इंग्लैंड के खिलाफ श्रृंखला भी इसी ओर बढ़ती दिख रही है। इंग्लैंड के चार विकेट पर 160 रन के स्कोर का पीछा करते हुए भारतीय महिला टीम छह विकेट पर 119 रन ही बना सकी थी। इंग्लैंड के मजबूत स्कोर के बाद भारत को हरलीन देओल, कप्तान स्मृति मंधाना, जेमिमा रोड्रिग्ज और अनुभवी मिताली राज से काफी उम्मीदें थी लेकिन इन सभी ने निराश किया। भारत को हरमनप्रीत कौर जैसी आक्रामक खिलाड़ी की कमी खली। टी20 टीम की नियमित कप्तान हरमनप्रीत चोटिल हैं। बेहतरीन फार्म में चल रही स्मृति भी कप्तानी में पदार्पण करते हुए नाकाम रही। उन्हें पिछले साल शानदार प्रदर्शन के लिए आईसीसी की साल की सर्वश्रेष्ठ महिला क्रिकेटर भी चुना गया। हरमनप्रीत की अनुपस्थिति में एकदिवसीय टीम की कप्तान मिताली के टी20 में बड़ी भूमिका निभाने की उम्मीद थी लेकिन वह सिर्फ सात रन बना पाई और मौके का फायदा उठाने में नाकाम रहीं। मिताली के अगले साल होने वाले टी20 विश्व कप से पहले संन्यास लेने की संभावना है और कल वह बेहतर प्रदर्शन करने के इरादे से उतरेंगी।टीम में वापसी कर रही वेदा कृष्णमूर्ति भी पहले मैच में नाकाम रहीं और 25 गेंद में 15 रन ही बना सकीं।शिखा पांडे (नाबाद 23), दीप्ति शर्मा (नाबाद 22) और अरुंधति रेड्डी (18) ही कुछ देर टिककर खेल पाए लेकिन यह नाकाफी था। गेंदबाजी में भी दीप्ति, अरुंधति और राधा यादव ने काफी रन लुटाए। तेज गेंदबाज शिखा पांडे (18 रन पर एक विकेट) और लेग स्पिनर पूनम यादव (बिना विकेट के 18 रन) ने किफायती गेंदबाजी की लेकिन उन्हें बाकी गेंदबाजों से पर्याप्त सहयोग नहीं मिला। दूसरी तरफ इंग्लैंड की ओर से टैमी ब्युमोंट (57 गेंद में 62 रन), कप्तान हीथर नाइट (20 गेंद में 40 रन) और डेनियली वाट (35) पहले मैच में काफी अच्छी लय में दिखीं जिससे इंग्लैंड को मेजबान टीम को हराने में अधिक पसीना नहीं बहाना पड़ा।

whatsapp mail