शाम-ए-अवध 24 साल बाद चौके-छक्कों से दीवाली मनाने के लिये तैयार

img

लखनऊ
करीब 24 साल बाद शाम-ए-अवध दीपावली की पूर्व संध्या पर चौकों छक्कों की गूंज से गूजेंगा, मौका होगा राजधानी के नये नवेले इकाना इंटरनेशनल स्टेडियम में भारत और वेस्टइंडीज के बीच छह नवंबर को होने वाले दूसरे टी 20 क्रिकेट मुकाबले का, जिसके गवाह होंगे नवाबों के शहर के करीब 50 हजार क्रिकेट प्रेमी। इसके साथ ही उत्तर प्रदेश की राजधानी में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट की मेजबानी का पिछले लगभग ढाई दशक से चला आ रहा सूखा भी खत्म हो जाएगा। लखनऊ में आखिरी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैच जनवरी 1994 में भारत और श्रीलंका के बीच केडी सिंह बाबू स्टेडियम में टेस्ट मैच के रूप में खेला गया था। इसके बाद सारे अंतरराष्ट्रीय और आईपीएल मैच कानपुर में आयोजित किये गये। अत्याधुनिक इकाना स्टेडियम में मैच देखने के लिये दर्शकों में खासा उत्साह है। स्टेडियम की क्षमता 50 हजार दर्शकों की है और यहां मैदान के हर कोने से दर्शक मैच का भरपूर लुत्फ उठा सकते है। इस स्टेडियम में नौ पिच हैं, शानदार ड्रेसिंग रूम है और दूधिया रोशनी का शानदार इंतजाम है। इकाना स्पोर्ट्स सिटी के प्रबंध निदेशक उदय सिन्हा ने रविवार को बताया कि इस मैच को लेकर क्रिकेट प्रेमी बेहद रोमांचित हैं। उन्होंने कहा, क्रिकेट प्रेमियों में मैच को लेकर इतनी अधिक दीवानगी है कि आनलाइन टिकट कुछ घंटों में ही खत्म हो गये जबकि आफ लाइन टिकटों के लिये दो दिन तक लंबी कतारें लगी रही। मैच शुरू से होने से तीन दिन पहले एक भी टिकट नही बचा है। ऐसी स्थिति तब है जबकि मैच का सबसे कम टिकट 1000 रुपये का था तथा बाक्स का टिकट करीब 23 हजार रुपये का था। उप्र क्रिकेट संघ के निदेशक एस के अग्रवाल ने बताया कि लखनऊ में करीब 24 साल बाद कोई अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैच होगा इसलिये यूपीसीए इसे सफल बनाने में कोई कोर कसर नही छोड. रहा है।

whatsapp mail