शॉ प्रतिबंध के बाद सैयद मुश्ताक अली टूर्नामेंट से वापसी करेंगे

img

रांची
डोपिंग टेस्ट में विफल रहने के बाद मुंबई के ओपनर पृथ्वी शॉ पर लगा प्रतिबंध शुक्रवार को खत्म हो गया है। उनका चयन सैयद मुश्ताक अली टी-20 ट्रॉफी के आखिरी दो लीग मैचों और सुपर लीग स्टेज लिए मुंबई की 15 सदस्यीय टीम में हुआ है। 30 जुलाई को डोपिंग टेस्ट में विफल रहने के बाद बीसीसीआई ने उन्हें आठ महीने के लिए प्रतिबंधित कर दिया था। शॉ ने अनजाने में एक ऐसा कफ सिरप ले लिया था, जिसमें टर्बुटलाइन नाम की प्रतिबंधित दवा मिली हुई थी। शॉ ने वो कफ सिरप पिछली मुश्ताक अली ट्रॉफी के दौरान लिया था, जो कि इस साल फरवरी और मार्च के बीच खेली गई थी। बीसीसीआई ने कहा था कि शॉ को तय अवधि का कम से कम आधा हिस्सा पूरा करना होगा, जो 15 नवंबर को पूरा समाप्त हो जाएगा। शॉ के चयन के बारे में जानकारी देते हुए मुंबई टीम के पूर्व कप्तान और वर्तमान मुख्य चयनकर्ता मिलिंद रेग ने कहा, मैंने कुछ दिनों पहले पृथ्वी से उनकी सक्रियता को लेकर बात की थी, उन्होंने मुझे बताया कि वे एनसीए में राहुल द्रविड़ के मार्गदर्शन में प्रशिक्षण ले रहे हैं। वे स्वस्थ और खेल में वापसी के लिए तैयार दिख रहे हैं। वे शनिवार को टीम के साथ जुड़ेंगे। 16 के बाद वे खेलने के योग्य हो जाएंगे। पिछले साल अक्टूबर में डेब्यू टेस्ट में शतक लगाने के साथ ही शॉ सुर्खियों में आ गए थे। निलंबन की अवधि के दौरान वे मुख्य रूप से बेंगलुरु स्थित नेशनल क्रिकेट एकेडमी में प्रशिक्षण लेते रहे। बीसीसीआई के लगाए प्रतिबंध को स्वीकार करते हुए शॉ ने कहा था कि मैं तेज और मजबूत वापसी करूंगा क्योंकि क्रिकेट मेरा जीवन है और भारत और मुंबई के लिए खेलने से बड़े गर्व की बात कोई और नहीं है। रेग ने आगे कहा, 'वे एक शानदार खिलाड़ी हैं, हमें उसे वापस लाना होगा। वे युवा हैं जिन्होंने पहले काफी रन बनाए हैं। लेकिन वो अतीत की बात है, अब हम उसे उसकी क्षमता के हिसाब से देख रहे हैं।

whatsapp mail