मंदिरों के शहर भुवनेश्वर में हॉकी विश्व कप की बड़ी धूम

img

खेल डेस्क
भुवनेश्वर को मंदिरों की नगरी कहा जाता है। शहर में हर चौराहे पर मंदिर है। ऐतिहासिक लिंगराज मंदिर, बेहद सुंदर राजा-रानी मंदिर और श्रीराम मंदिर सहित छोटे बड़े मिलाकर एक हजार से ज्यादा मंदिर होंगे। यह भुवनेश्वर की पहचान वाकई मंदिरों के शहर और भक्तों की नगरी के रूप में कराता है। भुवनेश्वर भक्ति रस में डूबा शहर लगता है। यहां बुधवार से शुरू हो रहे 14 वें पुरुष हाक़ी विश्व कप से पहले ही भुवनेश्वर में हॉकी की धूम दिखाई देती है। दिल्ली से सुबह बीजू पटनायक हवाईअड्डे पर उतरने पर हवाईअड्डे के भीतर ही भारत के कप्तान सेंटर हाफ मनप्रीत सिंह, उपकप्तान चिंगलेनसाना सिंह के साथ, अर्जेंटीना के गोंजालो पिलात, ऑस्ट्रेलिया के एरोन जेलवस्की जैसे दुनिया के हॉकी धुरंधरों केआदमकद फोटो यह अहसास करा रहे हैं कि मंदिरों के शहर भुवनेश्वर में अब हॉकी की धूम है। दुनिया की शीर्ष 16 टीमों के धुरंधर खिलाडिय़ों के आदमकद चित्रों के साथ आकर्षक वाक्य लिखा है, नायक बनते हैं महानायक। हॉकी विश्व कप के लिए यह प्रेरक वाक्य दुनिया भर के नवोदित हॉकी खिलाडिय़ों के लिए खुद को महानायक बनाने का मौका मुहैया करा रहा है । भारत के दिलप्रीत सिंह, हार्दिक सिंह, नीलकांत सिंह सरीखे नौजवान खिलाडिय़ों के लिए यह मंच बेहतरीन साबित हो सकता है। 
 

whatsapp mail