ओडिशा की धरती पर इतिहास रच सकती है भारतीय हाकी टीम: दिलीप टिर्की

img

भुवनेश्वर
आखिरी मिनटों में गोल गंवाने की कमजोरी से बचने के लिये डिफेंडरों को 'पोजिशनिंग' दुरूस्त रखने की सलाह देते हुए भारतीय हाकी टीम के पूर्व कप्तान दिलीप टिर्की ने कहा कि मौजूदा टीम 43 बरस बाद विश्व कप में पदक जीतकर इतिहास रच सकती है। मौजूदा विश्व कप में अभी तक अपराजेय भारतीय हाकी टीम ने लीग चरण में शीर्ष पर रहकर क्वार्टर फाइनल के लिये क्वालीफाई किया जहां उसका सामना दुनिया की चौथे नंबर की टीम नीदरलैंड से हो सकता है। नीदरलैंड को कनाडा से क्रासओवर मैच खेलना है। कभी भारतीय हाकी की दीवार कहे जाने वाले महान डिफेंडर टिर्की ने कहा कि मौजूदा भारतीय टीम दुनिया की किसी भी टीम को हराने का माद्दा रखती है लेकिन उसे आक्रामक हाकी खेलने के साथ् अपने डिफेंस को भी मजबूत रखना होगा। टिर्की ने दिये इंटरव्यू में कहा ,'' अभी तक हमने शानदार हाकी खेली है और बेल्जियम जैसी मजबूत टीम के पूल में रहते सीधे क्वार्टर फाइनल के लिये क्वालीफाई किया जो अच्छा संकेत है । हमने मैदानी गोल के साथ अहम मैचों में पेनल्टी कार्नर पर भी गोल किये हैं लिहाजा हर विभाग में प्रदर्शन विश्व स्तरीय रहा है। उन्होंने कहा कि कोच हरेंद्र सिंह की इस टीम की खूबी उसकी फिटनेस है जो उसे अतीत की टीमों से बेहतर करती है। उन्होंने कहा,''भारतीय टीम की फिटनेस काबिले तारीफ है। खिलाडिय़ों की मूवमेंट, रनिंग और रिफ्लैक्सेस अच्छे हैं और इससे प्रदर्शन में काफी फर्क आया है। भारत के लिये सबसे ज्यादा अंतरराष्ट्रीय मैच खेल चुके टिर्की ने कहा,'' नीदरलैंड दुनिया की सबसे आक्रामक टीमों में से है लेकिन भारतीय टीम अब शीर्ष टीमों को हरा रही है। हमें बस आखिरी क्षणों में गोल गंवाने से बचना होगा जिसके लिये डिफेंडरों की पोजिशनिंग दुरूस्त रहनी जरूरी है। ऐसा करने पर विरोधी स्ट्राइकरों पर मनोवैज्ञानिक दबाव बनेगा और वे हमला करने से पहले सोचेंगे। यह पूछने पर कि टीम को नीदरलैंड के खिलाफ क्या टिप्स देंगे, उन्होंने कहा ,'' डच खिलाडिय़ों को गोल करने के लिये जगह देने से बचना होगा। इसके अलावा गेंद पर नियंत्रण में भी उनसे बेहतर रहना होगा। उन्होंने हाकी के गढ बने भुवनेश्वर के दर्शकों को भी इस प्रदर्शन का श्रेय देते हुए कहा,'' भुवनेश्वर के दर्शक हाकी के मुरीद है और भारतीय टीम के लिये तो उनका जोश टानिक का काम करता है। अब भारतीय टीम को चाहिये कि वे पदक जीतकर उन्हें तोहफा दे और मुझे लगता है कि यह टीम 43 बरस बाद विश्व कप में पदक जीतकर इतिहास रच सकती है ।यह मौका उसे गंवाना नहीं चाहिये। ओडिशा पर्यटन विकास निगम के अध्यक्ष टिर्की ने टूर्नामेंट को ओडिशा पर्यटन के लिये वरदान बताते हुए कहा कि इससे विश्व पर्यटन के मानचित्र पर ओडिशा की अलग पहचान बनी है । उन्होंने कहा,'' खेल पर्यटन के जरिये यहां आ रहे पर्यटकों को ओडिशा के विभिन्न ऐतिहासिक और धार्मिक स्थानों को देखने और ओडिया संस्कृति को समझने का मौका मिल रहा है । इससे निश्चित तौर पर पर्यटन को बल मिलेगा ।

whatsapp mail