भारतीय पुरूष टेटे टीम ने जापान को हराकर पदक पक्का किया

img

जकार्ता
भारतीय पुरूष टीम ने क्वार्टर फाइनल में जापान को 3-1 से हराकर एशियाई खेलों के इतिहास में टेबल टेनिस में पहला पदक पक्का किया। जापान के चोटी के तीन खिलाड़ी इस प्रतियोगिता में नहीं उतरे थे लेकिन भारतीयों के लिये यह मायने नहीं रखता। पिछले 15 वर्षों से भारत के शीर्ष खिलाड़ी रहे अचंता शरत कमल ने कहा, यह आखिरकार एशियाई खेल हैं। मैंने कभी सपने में भी नहीं सोचा था कि हम इसमें पदक जीतेंगे।'' इससे पहले भारत कभी टेबल टेनिस में पदक नहीं जीत पाया था। लंबे समय तक चीन (61 स्वर्ण), जापान (20) और दक्षिण कोरिया (10) का ही इस खेल में दबदबा रहा। विश्व में 33वें नंबर के शरत ने 19वें नंबर के केंटा मात्सुदाइरा को 11-8, 12-10, 11-8 से हराया। युवा स्टार और 39वें नंबर के जी सातियान ने बड़े मंच पर अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया तथा 28वी रैंकिंग के जिन उएदा और मात्सुदाइरा दोनों के खिलाफ अपने एकल मैच जीते। सातियान ने उएदा को सीधे गेम में हराया जबकि मात्सुदाइरा को उन्होंने चार गेम में शिकस्त दी। इससे पहले महिला टीम क्वार्टर फाइनल में हांगकांग से 1-3 से हार गयी थी।

whatsapp mail