तीसरे टेस्ट से बाहर होना निराशाजनक था : सैम कुर्रन

img

साउथैंप्टन
इंग्लैंड के लिए पहली पारी में सबसे ज्यादा 78 रन बनाने वाले ऑलराउंडर सैम कुर्रन ने कहा कि पहले दिन गेंद काफी स्विंग हो रही थी। जब गेंद 65 ओवर बाद पुरानी हो गई थी तब भी कई गेंद चौंका रही थीं। 20 वर्षीय कुर्रन इस सीरीज में इंग्लैंड की तरफ से दूसरे सर्वश्रेष्ठ स्कोरर हैं। बर्मिघम में मैन ऑफ द मैच रहने वाले इस बल्लेबाज ने शुरुआती दो टेस्ट खेले। न्यायिक प्रक्रिया से लौटने के बाद बेन स्टोक्स को जगह देने के लिए कुर्रन को तीसरे मैच में अंतिम एकादश से बाहर कर दिया गया था। जब उनसे इस बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि यह निराशाजनक था लेकिन मैंने इसे सकारात्मक लिया, क्योंकि यह अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट है। उन्होंने अपनी पारी के बारे में कहा कि मैं वहां कुछ करने गया था। हालांकि, मुझे कुछ साबित नहीं करना था। मैंने सिर्फ अपना नैसर्गिक खेल खेला जैसा मैंने पिछले सप्ताह सरे के लिए खेला था। गौरतलब है कि भारत के खिलाफ तीसरे टेस्ट मैच में कुर्रन को टीम में शामिल नहीं किया गया था जिसके बाद कई सवाल खड़े हुए थे। एक बार फिर से चौथे टेस्ट मैच के लिए वो टीम में शामिल हैं और उन्होंने पहली पारी में अपनी टीम के लिए सबसे ज्यादा रन बनाए।  

whatsapp mail