मीराबाई चानू मामूली अंतर से पदक से चूकी, जेरेमी ने युवा विश्व रिकॉर्ड तोड़ा

img

निंगबो
पूर्व विश्व चैम्पियन मीराबाई चानू ने अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया लेकिन मामूली अंतर से कांस्य पदक से चूक गई जबकि युवा ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता जेरेमी लालरिनुंगा रविवार को एशियाई भारोत्तोलन चैम्पियनशिप में रिकॉर्डतोड़ प्रदर्शन करके अपने ग्रुप में दूसरे स्थान पर रहे। जेरेमी ने ग्रुप बी में 67 किलो वर्ग में स्नैच में युवा, विश्व और एशियाई रिकॉर्ड तोड़ा। उन्होंने तीन में से दो प्रयास में 130 और 134 किलो वजन उठाया। पिछला रिकॉर्ड भी उनके ही नाम था जब उन्होंने इस साल 131 किलो वजन उठाया था। जेरेमी ने क्लीन एंड जर्क में अपने शरीर के वजन से दुगुना वजन दो सफल प्रयासों (157 और 163 किलो) में उठाया। उन्होंने कजाखस्तान के साइखान तेइसुयेव का 161 किलो का रिकार्ड तोड़ा। जेरेमी ने कुल 297 किलो वजन उठाया और वह पाकिस्तान के ताल्हा तालिब से पीछे रहे जिन्होंने 304 किलो वजन उठाया था। यह टूर्नामेंट ओलंपिक क्वालीफाइंग भी है जिसके अंक तोक्यो ओलंपिक 2020 की आखिरी रैंकिंग के वक्त गिने जायेंगे। पूर्व विश्व चैम्पियन मीराबाई चानू ने 49 किलो वर्ग में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया लेकिन मामूली अंतर से कांस्य पदक से चूक गई। मीराबाई ने स्नैच में 86 किलो वजन उठाया और क्लीन एंड जर्क में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए 113 किलो वजन उठाया। उन्होंने कुल 199 किलो वजन उठाया। इससे पहले उनका सर्वश्रेष्ठ निजी प्रदर्शन 192 किलो था जो उन्होंने फरवरी में एजीएटी कप में उठाया था। चीन की झांग रोंग ने 199 किलो वजन उठाया लेकिन नये नियम के तहत कांस्य पदक उन्हें मिला। इस नियम के तहत क्लीन एंड जर्क में कम वजन उठाने वाले को कुल वजन में वरीयता मिलेगी। चीन की होउ झिहुइ ने स्वर्ण पदक जीता जबकि उत्तर कोरिया की रि सोंग गम ने रजत पदक हासिल किया। दोनों ने क्रमश: 208 और 200 किलो वजन उठाया। अंतरराष्ट्रीय भारोत्तोलन महासंघ द्वारा पिछले साल भारवर्ग में बदलाव किये जाने के बाद मीराबाई का यह दूसरा अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंट है। वह पहले 48 किलो में भाग लेती थी। उन्होंने थाईलैंड में एजीएटी कप में 49 किलो में स्वर्ण पदक जीता था।

whatsapp mail