टाटा मोटर्स भारतीय रेसलिंग खिलाडिय़ों को ओलंपिक गोल्ड के लिए तैयार करेगा

img

मुंबई
रेसलिंग फेडरेशन ऑफ़ इंडिया (डब्लूएफआई) का प्रमुख प्रायोजक टाटा मोटर्स कमर्शियल व्हीकल्स बिजऩेस यूनिट (सीवीबीयु) ने उभरते भारतीय रेस्लर्स को आगे बढ़ाने, प्रोत्साहित और विकसित करने के लिए टाटा मोटर्स इलीट रेस्लर्स डेवलपमेंट प्रोग्राम’ का गठन किया है। इस प्रोग्राम के तहत इन रेस्लर्स को 2020 टोक्यो गेम्स में ओलंपिक गोल्ड मैडल जीतने के लिए तैयार किया जाएगा। प्रोग्राम द्वारा खिलाडिय़ों को विख्यात विदेशी कोचेज, सहायकों और अंतर्राष्ट्रीय अनुभव के समर्थन से सर्वश्रेष्ठ संभव प्रशिक्षण और कोचिंग सुविधायें प्रदान की जायेंगी। टोक्यो 2020 और पेरिस 2024 ओलंपिक गेम्स में ओलंपिक गौरव के लिए खिलाडिय़ों को तैयार करने के उद्देश्य से टाटा मोटर्स कमर्शियल व्हीकल्स बिजऩेस पहलवानों के लिए अंतर्राष्ट्रीय स्तर का एक सिस्टम तैयार करने में सहयोग करेगा ताकि वे खेल के सबसे बड़े वैश्विक मंच पर भारत के लिए सफलता की नई कहानी लिख सकें। इस प्रोग्राम द्वारा पुरुष और महिला दोनों दस्तों के लिए टॉप क्लास के विदेशी कोच और यथासंभव सर्वश्रेष्ठ सपोर्ट स्टाफ बहाल किये जायेंगे जो पहलवानों को शारीरिक और मानसिक स्तर पर तैयार करेंगे। इसके अलावा इलीट इंडियन रेस्लर्स के लिए उत्तम व्यावहारिक अनुभव के लिए यात्राओं की व्यवस्था की जायेगी ताकि वे प्रशिक्षण के वैश्विक मानदंडों के अनुसार खुद को प्रशिक्षित करके निखार सकें। सहायक कर्मियों में अनुभवी फिजियोथेरापिस्ट, बायोमेकैनिक्स, मेंटल ट्रेनर्स और न्यूट्रीशनिस्ट रहेंगे। साथ ही, टाटा मोटर्स भारतीय रेस्लर्स को बीमा सुरक्षा भी प्रदान करेगी। इस अवसर पर टाटा मोटर्स, सीवीबीयु के प्रेसिडेंट, श्री गिरीश वाघ ने कहा कि, ‘अपने गु्रप की विरासत के अनुरूप टाटा मोटर्स ने खेल को लगातार प्रोत्साहन और देश एवं दुनिया के खेल प्रतिभाओं को बढ़ावा प्रदान किया है। स्वदेशी खेल होने के नाते रेसलिंग (कुश्ती) की लोकप्रियता काफी बढ़ी है और प्रतिभाओं को निखारने के लिए और सहयोग की आवश्यकता है। हम रेसलिंग प्रतिभाओं को उन्नत कोचिंग और अंतर्राष्ट्रीय स्पोर्टिंग एक्सपीरियंस के साथ बढ़ावा देने, प्रशिक्षित एवं विकसित करने के लिए अपनी कोशिशों के द्वारा डब्लूएफआई के साथ अपने सम्बन्ध और मबजूत करना चाहते हैं। हमें उम्मीद है कि इन पहल कदमियों से भारतीय को बेहतर प्रदर्शन करने में मदद मिलेगी। हम आगामी टोक्यो 2020 और पेरिस 2024 ओलिंपिक गेम्स के लिए टीम को शुभकामनाए देते हैं। इस साझेदारी के विषय में रेसलिंग फेडरेशन ऑफ़ इंडिया के प्रेसिडेंट, श्री ब्रिजभुशन शरण सिंह ने कहा कि, ‘इंडियन रेसलिंग के विकास सहयोगी के रूप में टाटा मोटर्स के आगे आने से एक ठोस स्पोर्टिंग इको सिस्टम तैयार करने और हमारे इलीट प्रोग्राम को मजबूत बनाने में काफी मदद मिलेगी। इन सुविधाओं से रेस्लर्स को खुद पर ध्यान केन्द्रित करने और देश के लिए मैडल जीतने के पहले कठिनतम परीक्षणों के लिए तैयार करने में मदद मिलेगी। टाटा मोटर्स द्वारा फेडरेशन के प्रति व्यक्त विश्वास के लिए डब्लूएफआई उनका आभारी है। हमारी दृढ़ मान्यता है कि इस सम्बन्ध और सहयोग के फलस्वरूप भारत में रेसलिंग की एक ठोस शुरुआत होगी। इस दौरान रेसलरों को केन्द्रीय अनुबंध भी सौंपे जायेंगे। भारतीय खेल के इतिहास में पहली बार क्रिकेट के अलावा किसी खेल के लिए टाटा मोटर्स ने डब्लूएफआई के साथ केन्द्रीय अनुबंधों की घोषणा की है, जिसके तहत भारतीय रेसलरों को सुनिश्चित लाभ का आश्वासन उपलब्ध है। केंद्रीय अनुबंध वार्षिक एनुअल रिटेनर्स हैं जिन्हें खेल के माध्यम से ग्रेड और सालाना मूल कमाई के अनुसार 150 खिलाडिय़ों में विस्तृत होंगे। आज, खेल ऊर्जा और गतिशीलता के साथ सम्पूर्ण भारत में लोगों से जुडऩे का प्रमुख मंच हो गया है - आम और ख़ास, दोनों वर्गों के लिए। रेसलिंग स्वदेशी खेल है जिसमे मर्दानगी, प्रचंडता, और दृढ़ता की झलक मिलती है, इसमें खिलाडिय़ों की गति, फुर्ती और शक्ति की परीक्षा होती है और भारत और विदेशों में इसकी लोकप्रियता बढ़ रही है। ये गुण हमारे कमर्शियल व्हीकल्स की समृद्ध विरासत, लम्बी सेवा अवधि, टिकाऊपन और जबरदस्त प्रदर्शन से बिलकुल मेल खाते हैं। इस संधि से टाटा मोटर्स को विभिन्न हिस्सेदारों और व्यापक जन समुदाय से जुडऩे का मंच उपलब्ध होगा।

whatsapp mail