विश्व तीरंदाजी संस्था ने सदस्य संघों की सूची से एएआई का नाम हटाया

img

कोलकाता
विश्व तीरंदाजी संस्था ने अपने सदस्य संघों की सूची में से भारतीय तीरंदाजी संघ (एएआई) का नाम हटा दिया है और इसे अंदरूनी समस्यायें सुलझाने के लिये एक महीने का समय दिया है, वर्ना उसे निलंबन झेलना पड़ेगा। विश्व तीरंदाजी ने कहा कि वह एएआई के निलंबन पर फैसला करने के लिये 31 जुलाई तक इंतजार करेगी। विश्व तीरंदाजी एएआई के विवादास्पद चुनावों पर उच्चतम न्यायालय के फैसले का इंतजार करेगी। एएआई को सदस्य सूची से बाहर किये जाने के फैसले के बावजूद भारतीय तीरंदाज उन अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में राष्ट्रीय ध्वज के अंतर्गत भाग ले सकते हैं जिसमें प्रविष्टियां पहले ही भेजी जा चुकी हैं। विश्व तीरंदाजी ने दो पन्ने के फैसले में कहा कि (विश्व तीरंदाजी) कार्यकारी बोर्ड ने फैसला किया है कि काफी सबूत हैं कि एएआई ने विश्व तीरंदाजी संविधान और नियम के धारा 1.4.2.4और 1.4.2.5.1 का उल्लघंन किया है और विशेषकर 1.4.2.5.1 धारा के अंतिम प्वाइंट का जिसमें सुशासन जरूरी होता है। इसके अनुसार, ''इसके परिणामस्वरूप भारत को सदस्य संघ की सूची में शामिल नहीं किया गया और विश्व तीरंदाजी 31 जुलाई तक इंतजार करेगी। इसके बाद वह अदालत के नतीजें के आधार पर परिस्थितियों की दोबारा जांच करेगी। अभी तक बर्लिन तीरंदाजी विश्व कप चरण (एक से सात जुलाई) और तोक्यो ओलंपिक परीक्षण प्रतियोगिता (11 से 18 जुलाई) के लिये अंतिम प्रविष्टियां जबकि मैड्रिड विश्व तीरंदाजी युवा चैम्पियनशिप (19 से 25 अगस्त) के लिये 24 सदस्यीय शुरूआती प्रविष्टियां भेजी जा चुकी हैं। विश्व तीरंदाजी ने तदर्थ पैनल के गठन का निर्देश दिया है जिसमें भारतीय ओलंपिक संघ, खेल मंत्रालय और एएआई के दोनों गुटों के एक एक प्रतिनिधि शामिल होंगे जो भारतीय तीरंदाजी से संबंधित मामलों को देखेगा जिसमें अंतरराष्ट्रीय स्पर्धाओं के लिये तीरंदाजों का चयन और तटस्थ स्थान पर चुनाव कराना शामिल है। समिति की अध्ययक्षता आईओए सदस्य करेगा। विश्व तीरंदाजी ने यह फैसला विश्व चैम्पियनशिप के दौरान 14 जून को नीदरलैंड में डेन बोश में हुई कार्यकारी बोर्ड की बैठक में लिया था।

whatsapp mail