केएल राहुल और ऋषभ पंत का संघर्ष बेकार, इंग्लैंड ने ओवल टेस्ट 118 रन से जीता

img

लंदन
टीम इंडिया के इंग्लैंड दौरे का आखिरी टेस्ट मैच रोमांचक अंदाज में समाप्त हुआ। इंग्लैंड ने टीम इंडिया को इस मैच में 118 रनों से जीत दर्ज की। इस तरह से यह सीरीज इंग्लैंड ने 4-1 से जीती। इंग्लैंड के दिए 464 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी टीम इंडिया 345 रन बनाकर आउट हुई। टीम इंडिया ने एक समय केवल 2 रन पर 3 विकेट खो दिए थे। तब लगा कि इंग्लैंड इस मैच में जीत से ज्यादा दूर नहीं हैं। लेकिन केएल राहुल ने बेहतरीन पारी से इंग्लैंड को जीत से दूर कर दिया और मैच अंतिम सेशन में चला गया था। 
इस मैच में भारत की ओर से केएल राहुल का संघर्ष उल्लेखनीय रहा। केएल राहुल ने पहले चौथे दिन का खत्म होने तक टीम इंडिया का स्कोर पहले 46 रन बनाककर 58 किया। इसके बाद केएल ने दूसरे दिन रहाणे के साथ मिलकर 118 रन की साझेदारी की। रहाणे 37 रन बनाकर मोईन अली की गेंद पर आउट हुए। इसके बाद हनुमा विहारी शून्य पर आउट हुए, लेकिन ऋषभ पंत ने शानदार बल्लेबाजी कर केएल के साथ 204 रन की साझेदारी की। इस दौरान दोनों ने अपने अपने शतक पूरे किए। दोनों ने मिलकर आक्रमक खेल खेला लेकिन टीम इंडिया का स्कोर 325 रन पहुंचाने के बाद केएल राहुल 149 रन के निजी स्कोर पर दुर्भाग्यपूर्ण तरीके से आउट हो गए। उन्हें आदिल राशिद ने बोल्ड आउट किया। इस समय तक ऋषभ पंत 113 रन बना कर क्रीज पर मौजूद थे। इसके दो ओवर बाद ऋषभ पंत जब 114 रन के निजी स्कोर पर आउट हुए, तब लगने लगा कि अब इंग्लैंड यह मैच जीत सकता है। मेजबान टीम ने चौथे दिन सोमवार को आठ विकेट पर 423 रन बनाकर अपनी पारी घोषित की, पहली पारी में मिली 40 रनों की बढ़त के आधार पर इंग्लैंड ने भारत को कुल 464 रनों का लक्ष्य दिया। इंग्लैंड के दिए पहाड़ जैसे लक्ष्य का पीछा करते हुए मेहमान टीम की शुरुआत बेहद खराब रही और तेज गेंदबाज जेम्स एंडरसन ने सलामी बल्लेबाज शिखर धवन को एक के निजी स्कोर पर आउट करके भारत को पहला झटका दिया। तीसरे नंबर पर आए चेतेश्वर पुजारा बिना खाता खेले पवेलियन लौट गए, पुजारा को आउट करके एंडरसन ने आउट किया। कप्तान विराट कोहली भी भारतीय पारी को संभाल नहीं पाए और बिना खाता खोले आउट हो गए, उन्हें तेज गेंदबाज स्टुअर्ट ब्रॉड ने पवेलियन भेजा। इससे पहले, अपना आखिरी मैच खेल रहे एलिस्टर कुक (145) ने कप्तान जोए रूट (125) ने तीसरे विकेट के लिए 259 रनों की साझेदारी कर इंग्लैंड को मजबूत स्थिति में पहुंचाया। अपना पहला टेस्ट मैच खेल रहे हनुमा विहारी ने भोजनकाल के बाद रूट को पवेलियन भेजा और कुछ देर बाद कुक को आउट किया। तेज गेंदबाजों ने भी धारदार गेंदबाजी की और जॉनी बेयरस्टो (18) एवं जोस बटलर (0) को आउट किया, बेयरस्टो को मोहम्मद शमी जबकि बटलर को रविंद्र जडेजा ने पवेलियन की राह दिखाई। इसके बाद, इंग्लैंड के बल्लेबाजों ने तेजी से रन बनाए। हरफनमौला खिलाड़ी बेन स्टोक्स ने 37 और सैम कुरेन ने 21 रनों का योगदान दिया, आदिल राशिद 20 रन बनाकर नाबाद पवेलियन लौटे। भारत के लिए इस पारी में हनुमा विहारी और रवींद्र जडेजा ने तीन-तीन विकेट लिए जबकि मोहम्मद शमी को दो विकेट मिले। 

तीसरे दिन केवल 40 रन का अंतर रहा पहली पारी में 
टीम इंडिया मैच के दूसरे दिन 6 विकेट गंवाते हुए 158 रन पीछे थी, लेकिन पारी खत्म होते होते वह केवल 40 रन पीछे रही। इसके बाद इंग्लैंड ने दूसरी पारी में  दो विकेट के नुकसान पर 114 रन बना लिए। अब इंग्लैंड की बढ़त 154 रन की हो गई थी।  विहारी ने अपने पहले टेस्ट की पहली पारी में शानदार बल्लेबाजी की और 124 गेंदों पर 56 रनों की शानदार पारी खेलकर आउट हुए। उन्हें मोईन अली ने विकेटकीपर जॉनी बेयरस्टॉ के हाथों कैच आउट कराया। विहारी ने जडेजा के साथ 77 रनों की अहम पारी खेली।

लंच तक टीम इंडिया ने केवल एक ही विकेट गंवाया और दूसरे दिन के स्कोर 174 रनों में 66 रन जोड़ कर अपना स्कोर 240 रन करते हुए खुद को कमजोर स्थिति से काफी हद तक उबार लिया। लंच के बाद  मोईन ने ईशांत शर्मा को टीम इंडिया के 249 रन के स्कोर पर विकेटकीपर जॉनी बेयरस्टॉ के हाथों कैच आउट कराया और आदिल राशिद ने मोहम्मद शमी का विकेट लेकर इंग्लैंड को 9वीं सफलता दिलाई। शमी एक रन बनाकर टीम इंडिया के 260 रनों के स्कोर पर स्टुअर्ट ब्रॉड के हाथों कैच आउट हुए।  इससे पहले रवींद्र जडेजा ने शानदार अर्धशतक पूरा किया इसके बाद दूसरे सत्र में ही टीम इंडिया की पहली पारी 292 रनों पर आउट हो गई। इस पारी में रवींद्र जडेजा ने बेहतरीन 86 रनों की नाबाद पारी खेली। भारत का आखिरी विकेट जसप्रीत बुमराह के रूप में गिरा। टीम इंडिया अभी भी इंग्लैंड से 40 रन पीछे थी।

चायकाल तक इंग्लैंड के सलामी बल्लेबाजों ने 9 ओवर में  बिना कोई विकेट गंवाए 20 रन बना लिए थे। एलिस्टर कुक 13 रन और केटन जेनिंग्स 7 रन बनाकर क्रीज पर मौजूद थे। तीसरे सत्र में इंग्लैंड की दूसरी पारी में पहला विकेट केटन जेनिंग्स के रूप में गिरा। उन्हें मोहम्मद शमी ने 10 के निजी स्कोर पर बोल्ड आउट किया। इसके बाद इंग्लैंड का विकेट 62 के स्कोर पर गिरा जब  मोईन को रवींद्र जडेजा ने बोल्ड किया। मोईन केवल 20 रन बना सके। 28ओवर के बाद इंग्लैंड का स्कोर 2 विकेट के नुकसान पर 64 रन हो गया था। इसके बाद इंग्लैंड ने दूसरी पारी में  दो विकेट के नुकसान पर 114 रन बना लिए। 

whatsapp mail