राज्य सरकार ने स्वाइन फ्लू के उपचार के लिए कारगर व्यवस्थाएं लागू की है : रघु शर्मा

img

बाड़मेर
आमजन में स्वाइन फ्लू से बचाव के प्रति जागरूकता होना जरूरी है। इसके लिए वृहद स्तर पर जागरूकता कार्यक्रम चलाएं। चिकित्सा विभाग ने स्वाइन फ्लू से निपटने के लिए पुख्ता इंतजाम किए है। सभी चिकित्सकों को प्राथमिकता से कार्य करने के निर्देश दिए गए है। डॉं. शर्मा ने गुरूवार को बाड़मेर जिला मुख्यालय पर कलेक्ट्रेट कांफ्रेंस हाल में चिकित्साधिकारियों की बैठक को संबोधित करते हुए यह बात कही। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार स्वाइन फ्लू के उपचार के लिए कारगर व्यवस्थाएं लागू की है। उन्होंने कहा कि समस्त जिला मुख्यालयों पर स्वाइन फ्लू संबंधित जांच केन्द्र खोले गए है। इससे स्थानीय स्तर पर मरीजों को जांच की सुविधा मुहैया हो रही है। उन्होंने कहा कि स्वाइन फ्लू पोजिटिव होना अवश्य चुनौती है, लेकिन यह लाइलाज नही है। इससे बचाव के लिए आमजन में जागरूकता होना बेहद जरूरी है। चिकित्सा मंत्री ने विभागीय अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे अपने-अपने क्षेत्र में स्वाइन फ्लू के प्रति सजग रहें एवं रोगी में इसके लक्षण मिलते ही तत्काल समय पर उपचार सुनिश्चित करें। उन्होंने मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डा.कमलेश चौधरी को निर्देश दिए कि वे विद्यालयों की प्रार्थना सभाओं में चिकित्सकों को भेजकर स्वाइन फ्लू के लक्षण एवं उपचार के बारे में जानकारी दें। ताकि जन सहयोग से इस रोग पर समय रहते नियंत्रण पाया जा सकें। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ.शर्मा ने कहा कि सामुदायिक एवं प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर हो डिग्स अथवा पोस्टर लगाकर स्वाइन फ्लू के लक्षण एवं उपचार के बारे में जानकारी प्रदर्शित करवाएं। उन्होंने सभी चिकित्सको को हिदायत दी कि वे मरीज को बाहर की दवाई एवं जांच के लिए पर्ची नही लिखें। साथ ही नि:शुल्क दवा एवं जांच की सुविधा चिकित्सालय में उपलब्ध है उसका पूरा लाभ मरीजों को मिलना चाहिए। उन्होंने कहा कि जो चिकित्सक बाहर की दवा एवं जांच लिखेगा उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि चिकित्सालय में जो लपके मरीजों को बाहर की दवाई एवं जांच के लिए भ्रमित करते है उनके खिलाफ पुलिस कार्रवाई की जाए। उन्होंने कहा कि स्वाइन फ्लू के रोकथाम के लिए दवा की कोई कमी नही है, बल्कि हमें इस परिस्थिति में सेवा भाव से कार्य कर मरीजों का उपचार करना है। उन्होंने कहा कि चिकित्सक को मरीज भगवान के समान समझता है। वे अपने व्यवहार में बदलाव लाकर सदैव मरीज के साथ मधुर व्यवहार रखकर उसका उपचार करें, ताकि उसकी आधी बीमारी तो डॉक्टर के व्यवहार से ही ठीक हो जायेगी। चिकित्सा मंत्री ने कहा कि राज्य सरकार ने नशा मुक्ति अभियान एवं एनीमिया मुक्त राजस्थान अभियान की शुरूआत की है उन्होंने सभी चिकित्सा अधिकारियों को कहा कि वे इस अभियान का प्रभावी ढंग से संचालन कर जिले को नशे एवं एनीमिया जैसी बुरे व्यसनों व बीमारियों से मुक्त करावें। उन्होंने जनप्रतिनिधियों से भी कहा कि वे इस अभियान में पूरा सहयोग प्रदान करें। शिव विधायक अमीन खान ने ब्लाक लेवल पर बीसीएमएचओ के पद भरने का अनुरोध किया। मरीजों को मिले नि:शुल्क दवाएं,जांच के लिए बाहर भेजा तो होगी कार्रवाई डॉं. रघु शर्मा ने गुरूवार को बाड़मेर जिला मुख्यालय पर राजकीय चिकित्सालय का निरीक्षण कर चिकित्सा सेवाओं की जानकारी ली। इस दौरान उन्होंने जिला चिकित्सालय में स्वाइन फ्लू की रोकथाम को किए गये प्रबंधों की समीक्षा की। राजकीय चिकित्सालय में चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा ने वार्डो का भ्रमण कर पूरी व्यवस्थाओं का अवलोकन किया। उन्होंने अस्पताल की सफाई व्यवस्था समुचित ढंग से नहलृ होने पर प्रमुख चिकित्सा अधिकारी को निर्देश दिए कि वे अस्पताल में सफाई व्यवस्था में सुधार लाने के लिए आवश्यक कार्यवाही करें। चिकित्सा मंत्री ने चिकित्सालय में बनाए गए स्वाइन फ्लू के आई सोलेटेड वार्ड का निरीक्षण किया तथा स्वाइन फ्लू से निपटने के लिए किए गए चिकित्सा प्रबंधों की समीक्षा की। उन्होंने स्वाईन फ्लू की स्क्रीनिग व्यवस्था की जानकारी ली। उन्होंने चिकित्सालय में मौजूद चिकित्सकों से मरीजों के बारे में पूछताछ की एवं भ्रमण कर मरीजों की कुशलक्षेम पूछी। उन्होंने प्रमुख चिकित्सा अधिकारी को निर्देश दिए कि वे वार्ड के चिकित्सक प्रभारी एवं एनएनएम को पाबंद करें कि वे राउण्ड में आते ही सबसे पहले मरीजों को वार्ड में सफाई रखने के लिए के बारे में जानकारी दें। उन्होंने मरीजों को बेहतर चिकित्सा सेवाओं का लाभ दिलाने के भी निर्देश दिए। उन्होंने मुख्यमंत्री नि:शुल्क दवा वितरण केन्द्रों का निरीक्षण करने के साथ दवाइयों के वितरण की व्यवस्था के बारे में पूछा। उन्होंने चिकित्सकों को पाबंद किया कि वे बाहर की दवाइयां तथा जांच नहलृ लिखें। ?सा करते पाए जाने पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। चिकित्सा मंत्री शर्मा ने जिला चिकित्सालय में कार्यरत प्रतिदिन उपलब्ध चिकित्सकों की जानकारी के लिए अलग-अलग फ्लैक्स लगवाने को कहा। उन्होंने चिकित्सालय में होने वाली नि:शुल्क जांचों तथा उपलब्ध दवाइयों की सूची अस्पताल में अलग-अलग स्थानों पर फ्लैक्स लगवाकर चस्पा करने के निर्देश दिए। इस दौरान बाड़मेर विधायक मेवाराम जैन ने राजकीय चिकित्सालय में मरीजों को अतिरिक्त चिकित्सा सेवाएं एवं जांच सुविधा उपलब्ध कराने के बारे में चिकित्सा मंत्री को अवगत कराया।