ए सी डी ने एक चिकित्सक व लिपिक को किया टैप

img

भरतपुर
बुधवार को ए सी डी टीम ने एक झोलाछाप डाक्टर की दुकान में स्वास्थ्य विभाग द्वारा लगाई गई सील को हटाने के लिए मांगी गई 12500 रूप्ये की रिश्वत के मामले में एक चिकित्सक एवं लिपिक को रंगे हाथो पकडते हुए 10000 रूप्ये मौके से बरामद किए। ए सी डी टीम के डी वाई एस पी अशोक चौहान ने बताया कि शिकायतकर्ता के बताए अनुसार राजकीय सामुदायिक भवन जनूथरमेंकार्यरत एक चिकित्सक रतिराम चौधरी व डीग मोहनस्वरूप मौनी राजकीय चिकित्सालय में कार्यरत लिपिक धर्मेन्द्र जैन के खिलाफ कार्यवाही की गई। जिनसे 10000 रूप्ये की रिश्वत लेते रंगे हाथेां पकड लिया गया। अशोक चौहान ने बताया कि गिर्राज सिंह उर्फ पप्पी निवासी शीशवाडा निजी चिकित्सालय चलाया करता था जिसकी दुकान पर स्वास्थय विभाग की टीम ने करीब महीने भर पूर्व छापा मारकर सील कर दिया था। उसे हटवाने के लिए गिर्राज सिंह उर्फ पप्पी ने राजकीय सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र जनूथर में तैनाद चिकित्सक रतीराम चौधरी से सम्पर्क किया। जिसने सील हटवाने की एवज में 12500 रूपये मांगे। जिसमें बीसी एम ओ डाक्टर जगवीर सिंह आदि को देना तय हुआ सौदा तय हो जाने के बाद 2500 रूपये मंगलवार को दे दिए गए। व 10000 रूप्ये बुधवार को देना तय हुआ। इस वार्ता को हो जाने के बाद झोलाछाप चिकित्सक गिर्राज ने ए सी डी से सम्पर्क साधा जिस पर ए सी डी ने गिर्राज को रूपये देकर भेजा जैसे ही रूपये गिर्राज ने लिपिक धर्मेन्द्र जैन केा दिए। ए सी डी ने कार्यवाही करते हुए 10000  रूपये रंगे हाथों पकड लिए। इस मामले में रतीराम का कहना है कि मैं रकम लेकर जनूथर चिकित्सक के पास पहुंचा जिसने यह 10000 रूप्ये धर्मेन्द्र जैन को देने को कहा और मोबाईल पर मेरी बात कराई। मैं रकम लेकर पहुंचा और मैंने धर्मेन्द्र जैन को पैसे दिए तभी ए सी डी नेछापामार उसे रंगे हाथेां पकड लिया। वहंी टीम ने एक साथछापा मारते हुए मोबाईल टैप करते हुए जनूथर चिकित्सक को भीगिरफ्तार कर लिया। कार्यवाही के दौरान आए नाम चिकित्सक रतीराम, लिपिक धर्मेन्द्र जैन, बी सी एम ओ जगवीर सिंह को बैठाकर बातकी गई। यह कार्यवाही बंद कमरे में चली।बाद मेंपूरी कार्यवाही सार्वजनिक की गई। टीम में साहब सिंह, भेाजराज ,नेतराम, हरभान, चन्द्र सिंह, विजयसिंह, सुशील सत्यपाल, देवेन्द्र चाहर, दीपक, कोतवाल सत्यप्रकाश विश्नोई, टाउन इंचार्ज सुरेन्द्र सिंह गुर्जर, पवन आदि लोग उपस्थित थे।