देश की शान में शहीद जांबाज सैनिकों को नमन किया गया

img

भरतपुर
पूर्व सैनिक सेवा परिषद एवं जिला सैनिक कल्याण अधिकारी द्वारा भारतीय सशस्त्र सैनाओं द्वारा अपने पराकर्म से 16 दिसम्बर 1971 में भारत द्वारा पाकिस्तान पर विजय का राष्ट्रीय पर्व 'विजय दिवस' शहीद स्मारक लोहागढ स्टेडियम भरतपुर में बनाया गया। 
समारोह की अध्यक्षता पूर्व सैनिक सेवा परिषद के अध्यक्ष सुदेश शर्मा, मुख्य अतिथि जिला कलक्टर संदेश नायक, वरिष्ठ अतिथि कर्नल के वी एस ठेनुआ, आलोक शर्मा स्टेट कमिश्नर, स्काउट, कर्नल ओमवीर सिंह, कर्नल तेजराम एवं गिरधारी तिवारी, अध्यक्ष शहीद स्मारक समिति किला थे। इस भव्य कार्यक्रम में सर्वप्रथम शहीद स्मारक पर पुष्प चक्र चढाकर मुख्य अतिथि ने शुरूआत की।
इसमें सभी गौरव सैनानियों के सीने पर मैडल सुसज्जित थे, जो कि उनको युद्व के समय के उपलब्धियों को याद दिला रहे थे। समारोह का संचालन पूर्व वायु गौरव सैनानी एवं राष्ट्रीय कवि नरेन्द्र निर्मल ने किया। समारोह के मुख्य अतिथि जिला कलक्टर संदेश नायक ने अपने उद्बोधन में कहा कि गौरव सैनानियों का सम्मान करना हर नागरिक का कर्त्तव्य है, आगे आने वाले समय में प्रशासन इस कार्यक्रम को और उच्च स्तर पर आयोजित करेगा। समारोह में अतिथियों का स्वागत करते हुए कर्नल के वी एस ठेनुआ ने बतलाया कि भरतपुर के तीन सैनिक 1971 के युद्व में शहीद हुए थे। कर्नल ओमवीर सिंह ने कहा कि द्वितीय विश्व युद्व के बाद यह पहला क्षण था, जब 53 हजार पाकिस्तानी सैनिकां ने भारतीय सैना के सामन आत्मसमर्पण किया। कर्नल तेजराम ने अपनी सेना के अनुभवों का साझा करते हुए कहा कि भारत के हर नागरिक का कर्त्तव्य है कि वह राष्ट्रीय हित में अपना 100 प्रतिशत योगदान करे। वरिष्ठ अतिथि आलोक शर्मा ने शहीदों को नमन करते हुए यह कहा कि देश की रक्षा करना केवल सैनिकां का काम नहीं है, बल्कि राष्ट्रीय के हर नागरिकों को सैनिकां का सहयोग करना चाहिए व राष्ट्रीय के हर नागरिक का कर्त्तव्य है कि उनका सम्मान करें और उनकी शहादत को नमन करें। कार्यक्रम में भरतपुर की वीरांगनाओं की उपस्थिति सभी की ऑखों को नम्र कर रही थी व वीरांगानाओं को अपने पति के भारत माता पर न्योछावर होने पर गर्व था। समारोह में कार्यक्रम की जानकारी देते हुए महामंत्री डा सुरेन्द्र सिंह ने बताया कि पूर्व सैनिक सेवा परिषद गत 15 वर्षों से यह कार्यक्रम में भरतपुर में आयोजित करती आ रही है। कार्यक्रम में महेन्द्र सिंह मग्गो, हरेश कटारा, डा सुरेन्द्र सिंह, कैप्टन लेखराज, गुलाव सिंह, कौशल बैसला, विपुल कुमार एडवोकेट पीपला, कैप्टन धर्मवीर सिंह, सूवेदार देवला, धर्मसिंह, राजेन्द्र कुमार मुदगल, सूबेदार बृजेन्द्र सिंह, सूबेदार सुरेश कुमार, शालिनी सिंह, कैप्टन वीरीसिंह, टीकमसिंह, मांगीसिंह, सूबेदार रम्भो सिंह, डी सी सैनी, राकेश अजानिया आदि गौरव सैनानियों ने पुष्प अर्पित किये। कार्यक्रम में वीरांगना जयललिता देवी, सुनीता देवी, श्रीमती पुष्पा देवी, ज्ञानवती, विमला देवी, सीमा देवी, सुमन देवी एवं लाखनसिंह पुत्र शहीद नायक रामस्वरूप का सम्मान जिला कलक्टर संदेश नायक ने शॉल उडाकर एवं कर्नल के वी एस ठेनुओं द्वारा पुष्प गुच्छ देकर किया। समारोह के अन्त में पूर्व  सैनिक सेवा परिषद के अध्यक्ष ने आये हुए अतिथियों का धन्यवाद दिया। कार्यक्रम के अन्त में मुख्य अतिथि के साथ सभी गौरव सैनानियों व गणमान्य व्यक्तियों द्वारा शहीद स्मारक पर गु्रप फोटों खिचवायें।