लीलावती अपना घर हॉस्पीटल का शुभारम्भ

img

भरतपुर
अपना घर आश्रम में लीलावती अपना घर आश्रम को सन्त गीता मनीषी ज्ञानानन्द जी महाराज ने सेवा को समर्पित किया। यह हास्पीटल सुरेश चन्द बिन्दल लीलावती हॉस्पीटल आगरा द्वारा बनवाया गया है तथा मशीन अशोक जी महनसरिया मुम्बई द्वारा लगवायी गयी है। इस शुभारम्भ कार्यक्रम के मुख्य अतिथि डा. सुभाष गर्ग चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री राजस्थान सरकार, कार्यक्रम अध्यक्ष डा. अरूषि अजेय मलिक जिला कलक्टर तथा विशिष्ट अतिथि शिवसिंह भौंट, महापौर नगर निगम भरतपुर थे, हास्पीटल के शुभारम्भ के अवसर पर आज चार प्रभुजनों के ऑपरेशनों में यूटरस प्रोलैप्स, रेक्टल प्रोलैप्स, हार्निया तथा पैर का एम्पुटेशन सर्जन डा. अशोक गुप्ता, एनैस्थीसिया के डा. चन्द्रेश भारद्वाज, ओर्थो के डा. योगेश बिन्दल आगरा की टीम में राजेन्द्र सिंह, सत्यदेव चाहर, हरवीर सिंह, सुलेमान खान एवं रिक्कू शामिल थे व्यवस्थाओं में डा. वेदप्रकाश आर्य बयाना ने एक लाख रूपये का सहयोग दिया।
कार्यक्रम में शिवसिंह भौंट ने कहा कि अपना घर केवल यही सेवा नहीं कर रहा है यह निगम व सरकार का भी कार्य कर रहा है चाहे वह बीमार गायों की सेवा हो, एम्बुलेस, मोक्षवाहिनी या ए. सी ताबूत की हो। डा. आरूषि अजेय मलिक को राज कार्य की वजह से जल्दी वापस आना पडा। मुख्य अतिथि डा. सुभाष गर्ग ने कहा कि भरतपुर के अपना घर की बात पूरे देश के होती हैं तो हमें लगता है हमारे अपने घर की बात हो रही है, उन्होंने कहा आप एक आशा हैं जहाँ सरकार नहीं पहुँच सकती वहाँ अपना घर पहुंच जाता है। और जिस तरह डा. भारद्वाज कार्य कर रहे हैं यदि एम. पी., एम.एल.ए, मंत्री, मेयर अधिकारी उसी जज्बे के साथ कार्य करें तो समस्या ही नहीं रहे। यहाँ की व्यवस्थाओं को देखकर लगता है कि आर. बी. एम हॉस्पीटल की जिम्मेदारी डा0 भारद्वाज को दे दनी चाहिए। तथा उन्हांने इस अवसर पर कहा कि एम. एल. ए. कोष में अभी फण्ड नहीं है। मेरी पत्नि यहाँ आती रहती है 2 लाख रूपये दे जायेंगी।
सन्त ज्ञानानन्द जी ने कहा सेवा मानव धर्म का आभूषण है जो करता है वह सुशोभित हो जाता है अपना घर की सेवा व्यवहारिक धर्म का अतुल्य अनुभव कराती है सेवा परमात्मा की प्रसन्नता का सीधा साधन है परमात्मा को प्रसन्न करना है तो दीन दुखियों को प्रसन्न करो। उन्होंने कहा बटोरने वालों को सम्मान नहीं मिलता बांटने वालों को मिलता है। अन्त में उन्होंने कहा कि यहाँ ठाकुर जी पर जितना गहरा विश्वास है सभी व्यवस्था ठाकुर जी करते हैं उतना हदय के अन्त:स्थल में मिलना इस युग में दुर्लभ है। और उसी विश्वास के कारण ही यहाँ सुलगती हुई मानवता मुस्करा उठती है। इसके बाद सेवाओं की सी.डी प्रसारण किया गया तथा सहयोगियों को स्मृतियाँ प्रदान की गयी। डा. बी. एम. भारद्वाज ने बताया कि अब यहाँ पर भर्ती होने वाले प्रभुजनों के 90 प्रतिशत ऑपरेशन एवं जाँचे हो जायेंगी अब ऑपरेशनों के लिए जयपुर, अजमेर, बीकानेर, जोधपुर नहीं जाना पडेगा। डा. माधुरी भारद्वाज ने सेवाओं पर, राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री एन. पी. सिंह ने विस्तार एवं सचिव चन्द्रशेखर गुप्ता ने आश्रम की व्यवस्था प्रकाश डाला। आभार अध्यक्ष कुसुम अग्रवाल ने किया संचालन सतीश सिंघल ने किया तथा अन्त में शहीद सैनिकों को श्रृद्धाजंलि देकर कार्यक्रम का समापन किया गया।
हॉस्पीटल के शुभारम्भ समारोह में उपस्थित अतिथिगढ़