नक्सलियों को क्रांतिकारी कहते हैं कांग्रेसी: मोदी

img

भरतपुर
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राजस्थान विधानसभा चुनाव 2018 के लिए बीजेपी प्रत्याशियों को प्रचार करने बुधवार को नागौर के बाद भरतपुर पहुंचे। भरतपुर की ऐतिहासित गौरव गाथा का वर्णन करते हुए पीएम मोदी ने अपने संबोधन का आगाज पावन धरा को नमन करके किया। पीएम मोदी ने यहां भी कांग्रेस पर हमला बोलते हुए नामदार बनाम कामदार के चुनाव की बात कही। उन्होंने कांग्रेस पर नक्सलवादियों, माओवादियों को क्रांतिकारी कहने का आरोप लगाया और छत्तीसगढ़ में शहीद हुए भरतपुर के जवान का जिक्र करते हुए शहादत का नमन किया। भरतपुर में पीएम मोदी ने जनसभा को संबोधित करते हुए भरतपुर के शहीद जवान को याद करते हुए कहा कि बहादुरी और वीरता का दूसरा नाम है भरतपुर। उन्होंने कहा, 2014 से पहले देश में आए दिन बम धमाके होते थे, 2014 के बाद कहीं भी धमाका नहीं हुआ। कांग्रेस शासन में 12 लाख करोड़ का घोटाला हुआ। आज विश्वभर में देश का डंका बज रहा है। कांग्रेस देश का भला कैसे कर सकती है, नामदार की 4-4 पीढ़ी राज करके गई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राजस्थान के नागौर पर एक जनसभा को संबोधित कर रहे है। पीएम मोदी ने कांग्रेस पर हमला बोलते हुए कहा कि मै सोने की चमच लेकर पैदा नहीं हुआ। उन्होंने कहा कि आज लड़ाई नामदार और कामदार के बीच है। पीएम मोदी ने कहा कि कांग्रेसियों को नहीं पता कि चने का पेड़ होता है कि पौधा। जिन्हें मूंग-मसूर का फर्क नहीं पता वो किसानी समझाने चले हैं। भाषण की शुरुआत में पीएम मोदी ने महात्मा ज्योतिबा फुले को नमन किया। पीएम मोदी ने कहा कि भाजपा की सरकार कहीं भी हो चाहे दिल्ली में या राजस्थान में, हमारी सरकार का एक ही मंत्र होता है सबका साथ सबका विकास। भाषण की शुरुआत में पीएम मोदी ने महात्मा ज्योतिबा फुले को नमन किया। रैली को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि सबका साथ सबका विकास की यह प्रेरणा हमें महात्मा ज्योतिबा फुले और बाबा साहब आंबेडकर से मिली है। भाजपा की सरकार कहीं भी हो चाहे दिल्ली में या राजस्थान में, हमारी सरकार का एक ही मंत्र होता है सबका साथ सबका विकास। नागौर में बोले पीएम मोदी, देखिए, न आप चांदी का चम्मच लेकर पैदा हुए हैं न मैं, न आपके दादा-दादी राज करते थे न मेरे। एक कामगार आपसे आशीर्वाद लेने आया है। आज एक कामदार की लड़ाई एक नामदार से है। जो जिंदगी आप गुजार रहे हैं वही जिन्दगी मैं भी गुजार रहा हूं। अमीरों के पास बीमारी के इलाज के लिए तो बहुत विकल्प हैं लेकिन हमारे गरीब भाइयों का क्या लेकिन ये बात सोने की चमक लेकर पैदा हुए लोग कैसे समझ पाएंगे।