राजस्थान न्यायिक सेवा में अंशिका दिनकर ने प्राप्त की सातवीं रैंक

img

धौलपुर
राजकीय विधि महाविद्यालय की पूर्व छात्रा अंशिका दिनकर ने राजस्थान न्यायिक सेवा में 7 वीं रैंक प्राप्त कर धौलपुर जिले का नाम गौरवान्वित किया है। अंशिका दिनकर ने अपनी सफलता का श्रेय अपने माता पिता को देते हुए कहा कि कभी भी मेरे माता पिता ने मुझ में और मेरे भाई में फर्क नहीं देखा और हम बहनों को भी आगे बढऩे का अवसर दिया। साथ ही राजकीय विधि महाविद्यालय की पूर्व प्राचार्य डॉ तलत फ़ातिमा को अपनी सफलता का श्रेय देते हुए उन्होंने कहा कि डॉ तलत फातिमा द्वारा मुझे विधि विद्यार्थी जीवन से ही न्यायिक सेवा के लिए प्रेरित करती रही है और उनके आशीर्वाद से ही मुझे यह अवसर प्राप्त हुआ है। अंशिका दिनकर ने सामान्य वर्ग में राजस्थान में 7 वीं रैंक प्राप्त की है तथा उन्होंने विधि की छात्राओं से आव्हान किया है कि वह विधि को पेशे के रूप में अपनाएं और पीडि़तों की सहायता करें। अंशिका दिनकर के पिता धर्मेंद्र दिनकर पंचायत समिति धौलपुर मैं प्रधान रह चुके हैं तथा उनके तीन बेटियां एक बेटा है उन्होंने बताया कि उनकी सबसे बड़ी बेटी आर ए एस तथा दूसरी बेटी अंशिका दिनकर है जिसका राजस्थान न्यायिक सेवा में चयन हुआ है और सबसे छोटी बेटी बीटेक करने के बाद जॉब कर रही है यही नहीं एक बेटा बीटेक कर रहा है। डॉ तलत फ़ातिमा ने अंशिका दिनकर को बधाई प्रेषित करते हुए कहा कि शुरू से ही अंशिका में न्यायिक सेवा को लेकर एक जुनून था जिसके लिए उन्होंने दिन रात मेहनत की और दूसरे प्रयास में राजस्थान में 7 वी रैंक प्राप्त कर धौलपुर में इतिहास बनाया है। उन्होंने बताया कि अंशिका दिनकर धौलपुर जिले की पहेली महिला न्यायिक सेवा अधिकारी है और राजकीय विधि महाविद्यालय के इतिहास में भी वे पहली छात्रा है जिनका राजस्थान न्यायिक सेवा में चयन हुआ है। अंशिका दिनकर के राजस्थान न्यायिक सेवा अधिकारी के रूप में चयन होने पर उनके माता-पिता परिवारीजन, अभिभाषक संघ के पूर्व अध्यक्ष अतुल कुमार भार्गव, रंजीत दिवाकर ,राजेंद्र प्रसाद शर्मा उन्हें बधाई दी है।