10 हजार से अधिक राशि का नगद भुगतान नहीं कर सकेंगे

img

धौलपुर
विधानसभा आम चुनाव 2018 में चुनाव लडऩे वाले अभ्यर्थियों एवं निर्वाचन एवं व्यय अभिकर्ताओं को कलेक्ट्रेट सभागार में आदर्श आचार संहिता, निर्वाचन व्यय मोनिटरिंग, एमसीएमसी, पेडन्यूज, ई.वी.एम. एवं वीवीपैट तथा मतगणना का प्रशिक्षण प्रदान किया गया। प्रशिक्षण में आदर्श आचार संहिता के विभिन्न पहलुओं पर चर्चा की गई तथा उनके प्रश्नों के उत्तर दिये गये। वाहनों पर लगने वाले झण्डे एवं वाहनों की संख्या पर अभ्यर्थियों की शंका का समाधान किया गया। एक अभ्यर्थी अपने चुनाव प्रचार के दौरान अधिकतम 10 वाहनों का प्रयोग कर सकता है। आम नागरिकों से अपील की गई कि वे प्रत्याशी की अनुमति के बिना कोई प्रचार सामग्री प्रदर्शित ना करें। निर्वाचन व्यय मोनिटरिंग के सम्बन्ध में भी विस्तार से प्रशिक्षण दिया गया। अब कोई भी अभ्यर्थी एक दिवस में 10 हजार रूपये से अधिक राशि का नगद भुगतान नहीं कर सकेगा, ना ही 10 हजार से अधिक नगद राशि दान के रूप में ले सकेगा। प्रत्याशियों द्वारा संधारित किये जाने वाले विभिन्न प्रकार के व्यय रजिस्टरों के संधारण के सम्बन्ध में विस्तृत रूप से अवगत कराया गया। पेड न्यूज तथा एम.सी.एम.सी. के बारे में प्रिन्ट एवं इलैक्ट्रानिक मीडिया के सम्बन्ध में चुनाव आयोग द्वारा जारी दिशा निर्देशों से अवगत कराया गया। ई.वी.एम. वी.वी.पैट से मतदान एवं हैण्डस् ऑन ट्रेनिंग दी गई। मतगणना के बारे में भी विस्तार से जानकारी दी गई। अभ्यर्थियों एवं उनके निर्वाचन अभिकर्ताओं द्वारा पूछे गये प्रश्नों का जवाब दिया गया। उपस्थित सभी अभ्यर्थियों एवं उनके निर्वाचन तथा व्यय अभिकर्ताओं को आदर्श आचार संहिता, निर्वाचन व्यय मोनिटरिंग से सम्बन्धित पत्रा, परिपत्र एवं चुनाव के लिए उपयोग में लिये जाने वाले मदों की दर सूची उपलब्ध करवाई गई। प्रभारी अधिकारी निर्वाचन व्यय मोनिटरिंग एवं आदर्श आचार संहिता विनोद कुमार मीणा उपखण्ड अधिकारी सैंपऊ द्वारा सभी अभ्यर्थी एवं उनके अभिकर्ताओं की शंकाओं का समाधान किया, तथा अपेक्षा की कि, वे निर्वाचन के दौरान भारत निर्वाचन आयोग एवं निर्वाचन विभाग के निर्देशों का पालन कर स्वच्छ एवं निष्पक्ष निर्वाचन संपादन में सहयोग प्रदान करेगेंं। 12 हजार मतदाता खौफ के साए में, पुलिस ने भय फैलाने वालों लोगों को किया पाबंद धौलपुर। जिले में चारों विधानसभा क्षेत्र धौलपुर, बाड़ी, बसेड़ी और राजाखेड़ा में मतदान को लेकर 12 हजार मतदाता खौफ के साए में है। पुलिस ने ऐसे डेढ़ हजार से अधिक व्यक्तियों को चिह्नित कर लिया है, जो इन मतदाताओं में खौफ फैला रहे हैं।
 जिला प्रशासन की ओर से जिले में कराए गए सर्वे में सामने आया है कि चारों विधानसभा क्षेत्र में 12 हजार 67 मतदाता भयग्रस्त हैं। वहीं प्रशासन की ओर से ऐसे व्यक्तियों की भी सूची तैयार की है,जो मतदाताओं में भय फैला रहे हैं। जिनकी संख्या करीब एक हजार 642 है। पुलिस ने ऐसे व्यक्तियों पर कार्रवाई शुरू कर दी है। इन लोगों को पाबंद किया जा रहा है। जिले में चारों विधानसभा क्षेत्रों में भयग्रस्त वाले 199 मतदान केन्द्र चिह्नित किए गए हैं। इनमें से 283 बस्ती, मौहल्ले शामिल हैं,जहां निवासरत 12 हजार 67 मतदाता भयभीत हैं। इन मतदाताओं को डराने वाले 1642 व्यक्तियों को चिह्नित किया गया है,जिन्हें पुलिस ने पाबंद कर दिया है। इसके बाद अभी कार्रवाई जारी है। जिले की चारों विधानसभाओं में से बाड़ी विधानसभा में सबसे अधिक 6 हजार 835 मतदाता भयभीत हैं जिनके लिए 710 लोगों को पाबंद किया गया है। यहां पर 83 मतदान केन्द्रों पर 143 बस्ती व मौहल्ले में निवासरत मतदाता भये के साए में हैं। बसेड़ी विधानसभा क्षेत्र के 221 मतदान केन्द्रों में से 35 संवेदनशील मतदान केन्द्रों के 41 पॉकेट में 2179 मतदाता भयभीत हैं। इनमें भय फैलाने वाले व्यक्तियों की संख्या 429 है। धौलपुर विधानसभा क्षेत्र में 227 मतदान केन्द्रों में से 52 केन्द्रों को संवेदनशील मानते हुए उनमें रहने वाले 2705 मतदाताओं को भयभीत माना है। इसके लिए भयभीत करने वाले 334 व्यक्तियों को पाबंद किया गया है। राजाखेड़ा विधानसभा क्षेत्र के 230 मतदान केन्द्रों के इलाके में 29 मतदान केन्द्रों के 29 बस्तियों में रहने वाले 348 मतदाता भयग्रस्त है और इनमें भय फैलाने वालों की संख्या 169 है। चुनाव में शांति एवं व्यवस्था बनाए रखने के लिए पुलिस की ओर से व्यक्तियों को पाबंद किया जा रहा है। ऐसे व्यक्तियों को पाबंद करने की कार्रवाई जारी है। पुलिस की ओर से लगातार फ्लैग मार्च किया जा रहा है। वहीं पुलिस सेक्टर अधिकारी लगाए गए हैं। जो लगातार मतदाताओं का मनोबल बढ़ा रहे हैं। यह टीम गांव-गांव जाकर भयग्रस्त मतदाताओं से मिल रहे हैं और पुलिस सुरक्षा में मतदान के लिए प्रेरित कर रहे हैं.वहीं सूचना मिलते ही कार्रवाई करेंगे। जिले की चारों विधानसभा क्षेत्रों में एक तिहाई मतदान केन्द्र संवेदनशील घोषित किए गए हैं। जिले में कुल 932 मतदान केन्द्र हैं। इनमें से 319 मतदान केन्द्र क्रिटिकल घोषित किए गए हैं। इन मतदान केन्द्रों पर पुलिस-प्रशासन की ओर से मतदाताओं की सुरक्षा के लिए माकूल प्रबंध किए जाएंगे। जिससे मतदाता भयमुक्त होकर निष्पक्ष रूप से मतदान कर सकें। निर्वाचन विभाग की सूचना के अनुसार सबसे अधिक संवेदनशील मतदान केन्द्र बाड़ी विधानसभा में हैं। वहां पर 254 मतदान केन्द्रों में से 114 मतदान केन्द्र संवेदनशील हैं। इसी प्रकार बसेड़ी में 221 मतदान केन्द्रों में से 69 मतदान केन्द्र संवेदनशील हैं। इसी प्रकार धौलपुर विधानसभा क्षेत्र में कुल 227 मतदान केन्द्रों में से 75 केन्द्र संवेदनशील हैं। वहीं राजाखेड़ा में कुल 230 मतदान केन्द्रों में से 71 मतदान केन्द्र संवेदनशील हैं।