राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण के निर्देशों की पालना सुनिश्चित करें : चेतन चौहान

img

धौलपुर
राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण द्वारा प्रकरण सुओमोटो बनाम केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्राण मण्डल में पारित आदेश 16 जनवरी 2019 के पालन में गठित स्पेशल टास्क फोर्स की बैठक अतिरिक्त जिला कलक्टर चेतन चौहान की अध्यक्षता में आयोजित की गई। बैठक में उन्होंने कहा कि जनसंख्या वृद्धि और प्रचंड उपभोक्तावाद के कारण प्राकृतिक संसाधनों का दोहन अपने चरम पर है, और हमारे सामने पर्यावरण को बचाए रखने का महत्वपूर्ण दायित्व है। जब पूरी दुनिया ग्लोबल वार्मिंग और क्लाइमेट चेंज के मुद्दे पर एकजुट हो रही हो तब एक मनुष्य और समाज के रूप में हमारी सबसे बड़ी जिम्मेदारी प्रकृति के साथ तारतम्यता बनाकर जीना है और उसी के मुताबिक अपनी जीनशैली को ढालना है। उन्होंने कचरा प्रबंधन इस दिशा में उठाया गया बेहतरीन कदम साबित हो रहा है। कचरा निस्तारण, रीसायक्लिंग, कचरे से ऊर्जा उत्पादन इन सभी को कचरा प्रबंधन या वेस्ट मैनेजमेंट कहा जाता है। रीसायक्लिंग से कई उपभोक्ता वस्तुएं बाजार में दोबारा उपलब्ध हो जाती है जो कि प्राकृतिक संसाधनों के दोहन में कमी ला रही है। एल्युमिनियम, तांबा, स्टील, कांच, कागज और कई प्रकार के प्लास्टिकों की रीयासक्लिंग की जा सकती है। धातुओं की रीसायक्लिंग करने से मांग के अनुरूप कई वस्तुएं बाजार में उपलब्ध हो जाती है और खनन में कमी आती है। क्षेत्राीय अधिकारी आरएसपीसीबी को सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट रूल्स 2016 की जागरूकता के लिए नगर परिषद आयुक्त के साथ समन्वय कर समग्र कार्ययोजना में तैयार कर एवं शैक्षणिक संस्थाओं, धार्मिक संस्थाओं एवं सामाजिक संस्थाओं से सहयोग प्राप्त करते हुए आई.ई.सी. गतिविधियां करवाया जाना सुनिश्चित करने के लिए निर्देशित किया गया। नगर परिषद आयुक्त धौलपुर को निर्देशित किया गया है कि वह उक्त भूमि पर सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट प्रोसेसिंग फेसिलिटी बनवाने की प्रक्रिया शुरू करें। बैठक मे मुख्य कार्यकारी अधिकारी जिला परिषद शिवचरण मीना, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. जनार्दन सिंह परमार, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. गोपाल प्रसाद गोयल आदि अधिकारी उपस्थित रहे। इसमें जन साधारण सभा करवाया जाने, रैलियां निकाले जाने, नुक्कड़ नाटक का आयोजन आदि को सम्मिलित किया जाए। नगर परिषद क्षेत्रा में बल्क वेस्ट जनरेटर का चिह्निकरण किए जाने तथा प्रतिदिन 100 किलोग्राम से ज्यादा कचरा उत्पन्न करने वाले प्रतिष्ठानों को नोटिस के द्वारा सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट रूल्स 2016 की जानकारी देकर नियमों की पालना किए जाने के लिए पाबंद किया जाए। अतिरिक्त जिला पुलिस अधीक्षक राजेन्द्र वर्मा, क्षेत्राीय अधिकारी राजस्थान राज्य प्रदूषण नियंत्राण मण्डल भरतपुर एवं जिला कलेक्टर द्वारा मनोनीत सदस्य नगर परिषद आयुक्त सौरभ जिन्दल की उपस्थिति में आयोजित बैठक में सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट रूल्स 2016 की पालना व जागरूकता के संबंध में राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण के निर्देशों की पालना के क्रम में क्षेत्राीय अधिकारी राजस्थान राज्य प्रदूषण नियंत्रण मण्डल भरतपुर एवं नगर परिषद आयुक्त धौलपुर, नगर पालिका अधिशाषी अधिकारी बाड़ी, राजाखेड़ा को कार्य करवाए जाने के लिए निर्देशित किया गया। नप को मोरौली में सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट प्रोसेसिंग फेसिलिटी बनवाने के लिए 20 बीघा भूमि आवंटित कर दी गई है। नगर परिषद आयुक्त धौलपुर को निर्देशित किया गया है कि वह उक्त भूमि पर सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट प्रोसेसिंग फेसिलिटी बनवाने की प्रक्रिया शुरू करें। बैठक मे मुख्य कार्यकारी अधिकारी जिला परिषद शिवचरण मीना, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. जनार्दन सिंह परमार, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. गोपाल प्रसाद गोयल आदि अधिकारी उपस्थित रहे।