महिला सुरक्षा सहायता के लिए रजिस्टर्ड का संधारण किया जाए : नेहा गिरी

img

धौलपुर
जिला महिला सहायता समिति की बैठक गुरूवार को जिला कलक्टर नेहा गिरि की अध्यक्षता में आयोजित हुई। इस दौरान महिला सहायता से जुड़े विभिन्न प्रकरणों पर विचार-विमर्श के साथ विभागीय अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए गए। जिला मुख्यालय पर आयोजित बैठक के दौरान महिला अधिकारिता विभाग के सहायक निदेशक बलवंत सिंह लिग्री ने गत बैठक कार्यवाही विवरण प्रस्तुत किया। बैठक मे उन्होंने कहा कि आर्थिक, सामाजिक एवं शैक्षणिक स्तर मे सुधार की आवश्यकता है। महिलाओं की स्थिति मे परिवार स्तर पर अपेक्षित सुधार नहीं हुआ है इसलिए इसके लिए प्रचार-प्रसार की आवश्यकता है। मुख्य रूप से समाज मे व्याप्त महिलाओं के प्रति विचारधारा ही महिलाओं के उत्पीडऩ एवं अहिंसा का मुख्य कारण है इस हेतु कुछ प्रकरणों मे विशेष रूप से पारिवारिक प्रकरणों मे उचित मार्गदर्शन और आपसी सहयोग से सुलझाएं जाने के प्रयास किए जाये। उन्होंने कहा कि घरेलू हिंसा से पीडि़त महिलाओं के लिए एक टोल फ्री नंबर प्राप्त करने व परामर्शदाताओं के नम्बरों सहित जागरूकता फैलाने वाले पेम्पलेट वितरित करने के लिए निर्देशित किया। ताकि पीडि़त महिलाएं अपनी भावना मानसिक दबाव, घुटन आदि की अभिव्यक्ति कर सके। पेम्पलेट में सास-ससुर को अपील के जरिए घरेलू हिंसा की घटनाओं को रोकने का आहवान करने पर विचार-विमर्श हुआ। इस दौरान जिले में संचालित महिला सुरक्षा एवं सलाह केन्द्र के कार्यों की समीक्षा की गई। पीडि़त महिलाओं को परामर्श सेवाऐं एवं विधिक सहायता भी जिला महिला सहायता समिति द्वारा उपलब्ध कराई जाए। उन्होंने कहा कि प्रत्येक थाना क्षेत्रा मे महिला सुरक्षा सहायता के लिए रजिस्टर का संधारण किया जाए महिला डेस्क पर महिला का मोबाईल नम्बर लिखें। हिन्दी मे ब्लॉक मैसेज के द्वारा प्रचार-प्रसार किया जाए एवं महिलाओं की सुरक्षा व्यवस्था किया जाना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि इसके लिए एक कार्यशाला का आयोजन किया जाए जिसमे सभी सदस्यों को बुलाया जाए। बैठक मे महिला सुरक्षा सलाह केन्द्र की परामर्शदाता रेनू कुमारी ने बताया कि केन्द्र को कुल 19 प्रकरण प्राप्त हुए, जिनमे से 12 प्रकरणों को निस्तारित किया गया। बैठक के दौरान जिला परिषद के अतिरिक्त मुख्य कार्यकारी अधिकारी बलवंत सिंह लिग्री, उप अधीक्षक पुलिस हरिराम मीणा, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के सहायक निदेशक राजेन्द्र गुर्जर, महिला सुरक्षा सलाह केन्द्र की परामर्शदाता सुश्री शिल्पा गड़वाल, महिला सुरक्षा एवं सलाह केन्द्र की संचालिका श्रीमती सुधा अग्रवाल, कानूनी सलाहकार हरिशंकर मुदगल, किर्ति राजावत, उपस्थित रहे।