भाजपा और कांग्रेस के पैनल तैयार, टिकटों को लेकर ऐलान जल्द

img

जयपुर
राजस्थान विधानसभा चुनाव को लेकर प्रदेश भाजपा की कोर कमेटी ने दो दिन तक एक होटल में चले मंथन के बाद पैनल बना लिया है। अब आज 1 नवंबर को दिल्ली में केंद्रीय संसदीय बोर्ड के सामने यह पैनल रखा जाएगा। माना जा रहा है कि भाजपा के प्रत्याशियों की पहली वह सूची जारी हो सकती है, जिन पर कोई विवाद नहीं है, साथ ही पार्टी इन प्रत्याशियों की जीत के प्रति आश्वस्त है। इसके अलावा कांग्रेस की स्क्रीनिंग कमेटी में भी सिंगल नामों का पैनल तैयार कर लिया है और जल्द ही कांग्रेस की सूची जारी हो सकती है। इस सूची में कांग्रेस के मौजूदा विधायकों के नाम भी तय है। माना जा रहा है कि कांग्रेस और भाजपा एक दो दिन में धनतेरस से पहले पहली सूची जारी कर सकती है।                                                                                                                                                                                                                                                                                                                  सीएम राजे पहुंची बीजेपी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ओम माथुर से मिलने उनके आवास, टिकटों को लेकर सहमति बनाने पर हुई चर्चा
वहीं भाजपा में दो दिन तक चलते मंथन में मौजूदा विधायकों के टिकट काटने को लेकर भी चर्चा हुई। लेकिन यह बात भी सामने आई कि अगर ज्यादा विधायकों के टिकट काटे गए, तो पार्टी को विरोध का सामना करना पड़ सकता है। साथ ही भाजपा में उम्रदराज विधायकों को टिकट नहीं देकर, उनके परिजन या किसी रिश्तेदार को टिकट देने पर भी सहमति बनी है। टिकटों को लेकर चल रही माथापच्ची के बीच सीएम वसुंधरा राजे बुधवार को अचानक बीजेपी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ओम माथुर से मिलने उनके आवास पहुंचीं। जहां दोनों के बीच करीब आधे घंटे से ज्यादा समय तक चर्चा हुई। माना जा रहा है की दोनों के बीच टिकटों को लेकर सहमति बनाने पर चर्चा हुई है। मुलाकात के बाद सीएम राजे दिल्ली के लिए रवाना हो गई। उधर, ओम माथुर ने कहा की अभी टिकटों पर मंथन जारी है। उन्होंने बताया कि अधिकांश सीटों पर सहमति बन चुकी है और पार्टी में टिकटों का चयन सहमती से ही होगा। अगर कुछ सीटों पर सहमति नहीं है तो उन पर सहमति बनाने का काम हम जैसे लोगों पर है। बीजेपी के वरिष्ठ नेताओं के बीच लगातार हो रही चर्चाओं और मैराथन बैठकों से ऐसा लग रहा है की कुछ सीटों पर दिल्ली और राजस्थान के बीच सहमती बनना बाकी है। ऐसे में पहले बड़े नेताओं और जहां विरोध नहीं है वहीं की लिस्ट जारी होने की संभावना है। जहां -जहां सहमति नहीं है, उन सीटों की लिस्ट दीपावली के बाद में जारी होगी।