केन्द्र सरकार की तानाशाही, भ्रष्टाचार और जुल्म का मुंह तोड़ जवाब देंगे: पायलट

img

जयपुर
केन्द्र सरकार द्वारा राफेल डील में हुये भ्रष्टाचार पर पर्दा डालने के लिये सीबीआई डायरेक्टर आलोक वर्मा को हटाने और सीबीआई जैसी स्वतंत्र एजेन्सी के अधिकारों को केन्द्र की मोदी सरकार द्वारा खत्म किये जाने के विरोध में जयपुर शहर जिला कांग्रेस कमेटी के हजारों कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने आज प्रदेश अध्यक्ष-सचिन पायलट के नेतृत्व में प्रदर्शन किया। इस दौरान राष्ट्रीय महासचिव- अविनाश पाण्डेय, विवेक बंसल, रामेश्वर डूडी और जिलाध्यक्ष प्रतापसिंह खाचरियावास उपस्थित रहे। चौमू हाउस सर्किल पर सुबह 10 बजे से ही कांग्रेस कार्यकर्ता जयपुर के विभिन्न क्षेत्रों से नारे लगाते हुये चौमू हाउस सर्किल पर पहुंचना शुरू हो गये। हजारो कांग्रेस कार्यकर्ता झण्डे लेकर गली-गली में शोर है चौकीदार चोर है, के नारे लगाते हुये चौमू हाउस सर्किल पर एकत्रित हो गये। इस दौरान कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने सैकडों कांग्रेस के झण्डे लेकर तानाशाही बन्द करो, सीबीआई को स्वतंत्र करो, प्रधानमंत्री मोदी जवाब दो जैसे-नारे लगा रहे थे। कांग्रेस कार्यकर्ताओं में भारी उत्साह और जोश व्याप्त था। बड़ी तादाद में जयपुर के हजारों कांग्रेस कार्यकर्ताओं के एकत्रित होने से पुलिस महकमे में हडकम्प मचा हुआ था, सैकडों पुलिस वाले भी स्पेशल टास्क फोर्स के साथ मौके पर आ गये थे। कांग्रेस कार्यकर्ताओं के हजारों की तादाद में एकत्रित हो जाने से भाजपा कार्यालय का रास्ता जाम हो गया। इस दौरान कांग्रेस कार्यकर्ताओं के साथ सुबह 10 बजे से ही जिलाध्यक्ष प्रतापसिंह खाचरियावास चौमू हाउस सर्किल पर डटे हुये थे। सुबह 11 बजे सचिन पायलट के नेतृत्व में हजारों कांग्रेस कार्यकर्ता अविनाश पाण्डेय, प्रतापसिंह खाचरियावाास, विवेक बंसल के साथ जुलूस के रूप में सीबीआई ऑफिस के लिये नारे लगाते हुये रवाना हुये। कांग्रेस के जुलूस को बीच रास्ते में बेरिकेटिंग लगाकर बगडिया भवन चौराहा, सी-'स्कीम पर रोक दिया। यहां पर पुलिस व कार्यकर्ताओं में थोडी-बहुत धक्का-मुक्की हुई। इस अवसर पर कांग्रेस कार्यकर्ताओं को सम्बोधित करते हुये सचिन पायलट ने कहा कि आज पूरे देश में केन्द्र सरकार के जुल्म, तानाशाही और भ्रष्टाचार के विरूद्ध हाहाकार मचा हुआ है। राजधानी दिल्ली में मोदी सरकार के इशारे पर लोकतांत्रिक मर्यादाओं को ताक में रखकर केन्द्र सरकार सीबीआई जैसी स्वतंत्र एजेन्सी के अधिकार समाप्त करके राफेल डील में भ्रष्टाचार पर पर्दा डालने के लिये कानूनी मर्यादाओं को समाप्त कर रही है। सीबीआई जैसी स्वतंत्र एजेन्सी के डायरेक्टर को हटाकर सीबीआई दफ्तर को सीज करके केन्द्र सरकार ने यह साबित कर दिया है कि राफेल डील में हुये भ्रष्टाचार को दबाने के लिये केन्द्र की मोदी सरकार किसी भी हद तक जा सकती है। पायलट ने कहा कि आज पूरे देश में कांग्रेस पार्टी लोकतांत्रिक स्वतंत्र जांच एजेन्सीयों को बचाने के लिये सडकों पर प्रदर्शन कर रही है। कांग्रेस देश की आवाज बनकर सडकों पर लडेगी, लेकिन भाजपा की मोदी सरकार के भ्रष्टाचार, जुल्म, तानाषाही और घमण्ड का मुंह तोड़ जवाब दिया जायेगा। उन्होंने कहा कि पूरे देष में सीबीआई प्रकरण के बाद मोदी सरकार ने देष की जनता का विष्वास खो दिया है। कल तक भ्रष्टाचार को समाप्त करने का दावा करके सत्ता में आने वाली मोदी सरकार आज खुद भ्रष्टाचार की परतें खुलने के डर से सीबीआई जैसी संस्थाओं पर भी ताला लगा सकती है। इससे स्पष्ट है कि भाजपा सरकार के प्रधानमंत्री, मंत्री और नेता देष की लोकतांत्रिक मर्यादाओं को समाप्त करके पूरे देष में तानाषाही और भ्रष्टाचार का राज कायम करना चाहते हैं। हम इस जुल्म का सडकों पर विरोध करके मोदी सरकार के जुल्म को रोक कर राफेल डील में हुये भ्रष्टाचार की सच्चाई देश के सामने लेकर आयेगें। इस अवसर पर राष्ट्रीय महासचिव अविनाश पाण्डेय और जिलाध्यक्ष प्रतापसिंह खाचरियावास ने भी कांग्रेस कार्यकता्रओं को सम्बोधित किया। दोनों ने कहा कि कांग्रेस के कार्यकर्ता राहुल गांधी के नेतृत्व में अपना खून-पसीना बहाकर लोकतंत्र को बचाने के लिये पूरे देष में संघर्ष करेगा। सीबीआई दफ्तर में हुये घेराव में सचिन पायलट, अविनाश पाण्डेय, विवेक बंसल, प्रतापसिंह खाचरियावास, रामेश्वर डूडी, ब्रजकिशोर शर्मा, महेश जोशी, मनोज मुदगल, अर्चना शर्मा, ज्योति खण्डेलवाल, अमीन कागजी सहित हजारों कांग्रेस कार्यकर्ता उपस्थित थे।