मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे नेे राजस्थान को कर्ज में डुबोया: अशोक गहलोत

img

जयपुर
पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव अशोक गहलोत ने कहा है कि मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे बार-बार कांग्रेस सरकार पर    ऋणभार बढ़ाकर खजाना खाली छोडऩे का झूठा और बेबुनियाद आरोप लगा रही है, जबकि वास्तविकता यह है कि उन्होंने खुद राजस्थान को कर्ज में डुबो दिया है। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस के समय राज्य पर वर्ष 2012-13 में 1,17,809 करोड़ रुपये का कर्ज भार था, आज उससे दोगुने से भी अधिक कर्ज राज्य की जनता पर डाल दिया गया है। वर्ष 2018-19 के बजट अनुमानों के अनुसार राज्य पर ऋ ण भार उदय योजना सहित 3,08,033 करोड़ रुपये माना जा रहा है। मुख्यमंत्री का यह कहना कि कांग्रेस सरकार ने राज्य का खजाना खाली कर दिया, जो असत्य और भ्रामक है। हकीकत में कांग्रेस सरकार ने वर्ष 2012-13 में 3451 करोड़ रूपये का राजस्व अधिशेष छोड़ा था जबकि वर्ष 2018-19 के बजट अनुमानों के अनुसार भाजपा सरकार का उदय योजना सहित 17454 करोड़ रुपये का राजस्व घाटा है। कुशल वित्तीय प्रबन्धन से पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार के समय राज्य सरकार के राजकोषीय घाटे को एफआरबीएम अधिनियम के तहत निर्धारित जीएसडीपी के 3 प्रतिशत की सीमा के अंदर ही नियंत्रित रखा गया था। वित्तीय कुप्रबन्धन के कारण राज्य के राजकोषीय घाटे को नियंत्रित रखने में भी राजे सरकार विफल रही है। वर्ष 2016-17 के अंत तक राजकोषीय घाटा जीएसडीपी का 3.19 प्रतिशत रहा जो निर्धारित सीमा से अधिक है। गहलोत ने कहा कि मुख्यमंत्री राजे के कार्यकाल में राज्य पर कर्ज की लगातार बढ़ोतरी हुई है।