कांग्रेस आलाकमान और विधायक तय करेंगे सीएम का चेहरा : पायलट

img

जयपुर
राजस्थान में विधानसभा चुनाव की तारीख करीब आने के साथ लगातार सियासी पारा चढ़ रहा है। इसके साथ ही राजनीतिक दलों में जारी सियासी उथल-पुथल भी सामने आने लगी है। कांग्रेस में सत्ता में आने पर मुख्यमंत्री बनने की रेस को लेकर रोज ही नए बयान सामने आ रहे हैं। इन सबके बीच राजस्थान कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट ने बुधवार को कहा कि प्रदेश में मुख्यमंत्री कौन बनेग का सवाल चुनावों के समाप्त होने के बाद उठेगा। उन्होंने कहा कि हम सभी एक साथ मिलकर जीतने के लिए काम कर रहे हैं। 
सचिन पायलट ने कहा कि चुनावों के बाद जब हमें बहुमत मिल जाएगा, तब सभी विधायक और कांग्रेस मिलकर तय करेंगे कि सरकार का मुखिया कौन होगा। उन्होंने कहा कि अभी ऐसे सवालों का कोई वजूद ही नहीं है। ऐसे सवाल चुनाव के बाद ही उठने चाहिए। गौरतलब है कि मंगलवार (20 नवंबर) को कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अशोक गहलोत ने कहा था कि प्रदेश में सीएम पद की रेस में कई लोगों का नाम है। गहलोत ने कहा था कि सीएम पद की दौड़ में लालचंद कटारिया, सचिन पायलट, सीपी जोशी, गिरजा व्यास, और रघु शर्मा भी हैं। गहलोत ने कहा था, कई बार कैंपेनिंग कमेटी के चेयरमैन भी मुख्यमंत्री बन जाते हैं। सभी नेताओं को पार्टी आलाकमान पर विश्वास रखना चाहिए। पार्टी आलाकमान जो निर्णय ले, उसे मानना चाहिए। सब नेताओं को सारी चिंताएं छोड़ कर पार्टी को जिताने में जुट जाएं। वहीं, कांग्रेस में गुटबाजी और सीएम पद के चेहरे को लेकर कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा था कि राजस्थान में कांग्रेस बड़े बहुमत के साथ सरकार बनाने जा रही है और अशोक गहलोत या सचिन पायलट में से कोई एक मुख्यमंत्री बनेगा। सिंघवी ने कानून व्यवस्था को लेकर राज्य सरकार पर जमकर आरोप लगाए थे। उन्होंने कहा था कि राजस्थान में कानून व्यवस्था पूरी तरीके से चरमरा गई है, सब कुछ राम भरोसे चल रहा है। जनता ने बीजेपी सरकार की विदाई का मन बना लिया है।