कांग्रेस आसमान में, भाजपा पाताल में और हम मिलेंगे जमीन पर : सिंघवी

img

जयपुर
राजस्थान की राजनीति के चाणक्य, विभिन्न पार्टियों के शीर्ष पदों पर रहे और वर्तमान में निर्दलीय मंच के संयोजक चन्द्रराज सिंघवी ने कहा है कि चुनाव के बाद कांग्रेस आसमान में, भाजपा पाताल में और हम मिलेंगे जमीन पर यानि सत्ता हमारी होगी। विधानसभा चुनाव और सभी पार्टियों को लेकर विशेष बातचीत में सिंघवी खुल कर बोले। उन्होंने कहा कि राजस्थान में शासन नाम की कोई चीज है ही नहीं और भाजपा सरकार की पांच साल की उपलब्धी ये रही कि जनता बुरी तरह फंस गई मैडम को वोट देकर। लोग कहते है ऐसी निकम्मी सरकार से अच्छा तो यह होता है कि अल्पमत की सरकार यहां बनती जिससे उसकी नकैल तो किसी के हाथों में होती। बहुमत प्राप्त कर सत्ता का दुरूपयोग किया गया है। महंगाई, भ्रष्टाचार, कुशासन से जनता दु:खी हो गई है। जलतेदीप को दिये गये एक विशेष साक्षात्कार में उन्होंने बताया कि राजस्थान को स्मार्ट सिटी वाले राज्य की बजाय बिमारू राज्य बना दिया है। भाजपा सरकार लगभग सभी मोर्र्चाें पर फेल रही है। जनहित में एक भी काम नहीं किये गये। गरीबी, बेरोजगारी, किसानों में असंतोष, कर्मचारियों में विद्रोह की स्थिति यहां पैदा हो गई। सिंघवी कहते है कि भाजपा के नेता पांच साल में सत्ता परिवर्तन के पूर्व साढ़े चार साल तो कुंभकरण की तरह सोते रहते है और आखिर के छ: माह पूर्व जागते हैं फिर सबको डिस्टर्ब करते हैं। लोकप्रिय सरकारों का यह दायित्व होता है कि जनता के साथ हमेशा संवाद होना चाहिये लेकिन यह तो संवादहीन एवं संवेदनहीन सरकार है। जनहित की कोई भावना इस सरकार में है ही नहीं। चन्द्रराज सिंघवी ने कहा कि उपलब्धियों के नाम पर भाजपा नेताओं ने अपने उल्लू सीधे किये है, जनता को गुमराह किया है और सर्वहित में एक भी ऐसा कार्य नहीं कहा जा सकता जिसकी वजह से लोग इनकी वाह वाही करें। सिंघवी ने बताया कि निर्दलीय मंच का गठन इसी आशय के साथ किया गया है कि हर पांच साल में भाजपा या कांग्रेस के शासन का अंत हो। दोनों ही जन आकांक्षाओं पर खरे नहीं उतरे है। अब निर्दलीय मंच इन चुनावों में हमारे मार्ग दर्शन में कम से कम इतनी सीटें प्राप्त कर सकेगा कि राजस्थान में नई सरकार के गठन में उसकी महत्वपूर्ण भूमिका होगी। हो सकता है निर्दलीय मंच में से हम में से भी कोई मुख्यमंत्री बनें। राजस्थान के परिपेक्ष्य में से 200 में से 50-75 सीटें ऐसी है जहां त्रिकोणीय संघर्ष के आसार बनेंगे और निर्दलीय प्रत्याक्षी यहां कांग्रेस एवं भाजपा दोनों को तगड़ी टक्कर देने वाले है। सिंघवी ने बताया कि निर्दलीय मंच के प्रत्याक्षी समाज के बहुत ही प्रतिष्ठित वर्ग से है और चुनाव में वे अन्य प्रत्याशियों से श्रेष्ठ साबित होने वाले है। निर्दलीय मंच एक ऐसा मंच है जो योग्य प्रत्याशियों का चयन कर उन्हें चुनाव लडऩे में पूरी मदद करता है। चन्द्रराज सिंघवी ने बताया कि इस बार राजस्थान में तीसरा मोर्चा यदि कोई होगा तो निर्दलीय मोर्चा होगा। सरकार बनाने में, या सरकार की चाबी उन्हीं के पास होगी। जनता भाजपा एवं कांग्रेस के शासन से ऊब कर परेशान हो गई है और अब सही विकल्प के रूप यदि है तो कोई, निर्दलीय मंच!