घोषणा पत्र से पहले कांग्रेस ने जारी किया आरोप पत्र

img

जयपुर
कांग्रेस ने अपना चुनावी घोषणा पत्र जारी करने से पहले गुरुरवार को भाजपा सरकार के खिलाफ आरोप पत्र जारी किया। कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट ने आरोप पत्र जारी करते हुए भाजपा सरकार पर जमकर प्रहार किए। सचिन पायलट ने कहा कि भाजपा राज में कृषि विकास दर में गिरावट आई है, किसान आत्महत्यांए करता रहा और सरकार मानने को ही तैयार नहीं है। भाजपा सरकार ने जानबुझकर नरेगा को कमजोर कर दिया। पायलट ने आरोप लगाया कि  राजस्थान सरकार ने प्रदेश को कर्ज में डुबो दिया, कर्ज 1.10 लाख करोड़ से बढ़कर 3 लाख करोड़ पर कर गया। 44 लाख युवाओं को रोजगार देने का दावा झूठा है। प्रदेश में हर रोज 13 बलात्कार हो रहे हैं जबकि गृह मंत्री अपराध कम होने का दावा करते हैं। बिजली की हालत खराब है, मुख्यमंत्री के गृह जिले झालावाड़ में सबसे ज्यादा बिजली चोरी हो रही है। पूर्वी राजस्थान के जिलों के लिए 37 हजार करोड़ की ईस्टर्न कैनाल प्रोजेक्ट का जुमला सरकार लेकर आई है, केंद्र सरकार ने भी इस प्रोजेक्ट की घोषणा नहीं की, क्योंकि केंद्र को भी पता है कि सरकार कांग्रेस की बन रही है और उसे इस प्रोजेक्ट को पूरा करवाना पड़ेगा, केंद्र से असहयोग कांग्रेस की सरकार बनने से पहले ही शुरु हो गया है। सचिन पायलट ने कहा कि मैंने सरकार को सुझाव दिया है कि अजमेर जयपुर के नाम बदलकर स्मार्ट सिटी कर दीजिए, स्मार्ट सिटी का काम तो हुआ नहीं है। भ्रष्टाचार के आरोपी आईएस अफसर को प्रोमोशन दिया गया। आदिवासी इलाके में बांसवाड़ा रतलाम रेल प्रोजेक्ट को रोक दिया, निवेश के नाम पर हल्ला किया, रिसर्जेंट राजस्थान का अब सरकार नाम तक नहीं लेती। भामाशाह योजना में भारी भ्रष्टाचार हुआ है, भामाशाह कार्ड से घोटाले का एक गिरोह बना हुआ है, सरकार ने इसकी जांच तक नहीं करवाई। 

जो अफसर सरकार के दबाव में काम कर रहे हैं, उन्हें जांच का सामना करना पड़ेगा : पायलट 

सचिन पायलट ने भी अशोक गहलोत की तर्ज पर भ्रष्टाचार के मामलों और दबाव में गलत काम करने वाले अफसरों की जांच करवाने का बयान दिया है। पायलट ने आरोप पत्र के आरापेों की कांग्रेस सरकार बनने पर जांच के सवाल पर कहा कि सरकार बनने पर भ्रष्टाचार के मामलों की जांच होगी, किसी व्यक्ति को टारगेट करके जांच नहीं होगी, हम विच हंटिंग नहीं करेंगे। लेकिन भ्रष्टाचार और गड़बडिय़ों की हम जांच जरूर करवाएंगे। जो अफसर सरकार के दबाव में गलत काम कर रहे हैं, उन्हें जांच का सामना करना पड़ेगा, उनके खिलाफ जांच जरूर होगी। 

भाजपा के लोग राजस्थानी को मान्यता के लिए बात करते हैं लेकिन कुछ नहीं किया : पायलट

पायलट ने कहा कि भाजपा के लोग राजस्थानी को मान्यता के लिए बात करते हैं लेकिन कुछ नहीं किया। केंद्र और राज्य दोनों जगह भाजपा की सरकार है, संविधान में संशोधन करके राजस्थानी को मान्यता देने से इन्हें कौन रोक रहा था, हम इसका समर्थन करते।