कांग्रेस सरकार आई तो जीएसटी का होगा सरलीकरण : जोशी

img

जयपुर
राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सीए प्रकोष्ठ के प्रदेशाध्यक्ष सीए विजय गर्ग ने बताया कि बुधवार को चार्टेड एकाउन्टेंस की एक बैठक का आयोजन किया गया। बैठक के मुख्य अतिथि मुख्य सचेतक डॉ. महेश जोशी थे एवं बैठक में कांग्रेस की जयपुर प्रत्याशी ज्योति खण्डेलवाल ने भी सीए साथियों के साथ संवाद किया। बैठक को सम्बोधित करते हुए मुख्य अतिथि डॉ. महेश जोशी ने कहा कि सीए आर्थिक नीतियों के बारे में विशेषज्ञ होते हैं एवं पिछले पांच साल में भाजपा की आर्थिक नीतियों की ठीक ढंग से समीक्षा सीए से बेहतर कोई नहीं कर सकता है। पिछले पांच सालों में भाजपा की आर्र्थिक नीतियों के कारण देश व प्रदेश का व्यापार ठप्प हो गया है एवं पूरे देश में वित्तीय संकट उत्पन्न हो गया है। उन्होंने कहा कि यदि कांग्रेस की सरकार बनती है तो आर्थिक नीतियों में सीए वित्तीय विशेषज्ञों की राय ली जायेगी जिससे वित्तीय नीतियां देश व प्रदेश के सर्वार्गीण विकास में अपना योगदान दे सके। उन्होंने कहा कि सीए की समाज में विशेष पहचान होती है और यदि सीए अपनी बात समाज के बीच जाकर कहता है तो समाज के विभिन्न वर्ग उस बात को मानकर उसका ध्यान रखते हैं। बैठक में जयपुर शहर से कांग्रेस प्रत्याशी ज्योति खण्डेलवाल ने सीए साथियों के साथ संवाद किया एवं उन्होंने कहा कि यदि वह जीतकर संसद में जाती है तो आर्थिक नीतियों के निर्माण में सक्रिय भूमिका निभायेगी एवं जयपुर शहर व प्रदेश के छोटे उद्योग एवं व्यापारियों को विशेष पहचान दिलाने में अपना योगदान देगी। उन्होंने यह भी बताया कि पूर्व में जब वह महापौर थी तब भी निगम की आर्थिक नीतियों पर सीए एवं अन्य विशेषज्ञों से राय लेकर कार्य करती थी जिसका निगम के आर्थिक संसाधनों में काफी वृद्धि हुई थी। बैठक को सम्बोधित करते हुए कांग्रेस सीए प्रकोष्ठ के प्रदेशाध्यक्ष सीए विजय गर्ग ने बताया कि भाजपा सरकार की सभी आर्थिक नीतियां पूर्ण रूप से विफल रही है, चाहे वह नोटबंदी हो, एफडीआई से संबंधित हो, जीएसटी से संबंधित हो या विदेशी व्यापार नीति से संबंधित हो, सभी नीतियां फेल होने के कारण पिछले कुछ वर्षों से देश में आर्थिक आपातकाल के हालात पैदा हो गये हैं एवं सरकारी एजेन्सियों से जनता का विश्वास उठता जा रहा है जिससे देश का आम व्यक्ति बैंकों में या सरकार की नीतियों में अपना पैसा लगाने से डर रहा है। बैठक में सीए गौतम शर्मा, सीए नटवर शारडा, सीए शशि रंजन, सीए नितिन व्यास, सीए किशन गर्ग, सीए सुरेन्द्र धाकड़, सीए पारूल गुप्ता, सीए विकास पारीक, सीए धनराज पारीक, सीए मनोज शर्मा, सीए बाबूलाल शर्मा, सीए रघुवीर पूनियां, सीए हरचरण सिंह, सीए अमित गुप्ता, सीए प्रशांत अग्रवाल आदि ने भी अपने विचार व्यक्त किये।