राज्य सतरीय बैंकर्स समिति की बैठक में हुई राज्य के बैंकिंग संबंधी मुद्दों पर विस्तार से चर्चा

img

जयपुर
बैंक ऑफ बड़ौदा के संयोजन में आज राज्य स्तरीय बैंकर्स समिति की 138 वीं बैठक जयपुर में संपन्न हुई। बैठक की अध्यक्षता भारतीय रिजर्व बैंक के क्षेत्रीय निदेशक श्रीकुमार ने की। श्रीकुमार ने अपने अध्यक्षीय संबोधन में उपस्थित बैंकर समुदाय से राज्य में सूक्ष्म लघु एवं मझोले उद्यमों (एमएसएमई) को ऋण उपलब्ध कराने की दिशा में त्वरित कार्रवाई करने तथा सीजीटीएसएमई योजना का अधिक से अधिक लाभ उठाते हुए एमएसएमई ऋणों के लिए कवर प्राप्त करने का अनुरोध किया। आपने बताया कि कोलेटरल प्रतिभूति पर ज़्यादा बल देने के कारण अधिकांश उद्यमियों को वाणिज्यिक बैंकों से वित्तीय सुविधा प्राप्त नहीं हो पाती है  और वे माइक्रो फाइनांस संस्थाओं की ओर उन्मुख हो जाते हैं। बैंकों द्वारा ऐसे लघु उद्योगों तथा वेंडरों/हाकर्स को वित्तीय सुविधाएं उपलब्ध करानी चाहिए ताकि उनका आर्थिक विकास हो सके। आपने राज्य में बैंकों के जून 2018 को समाप्त तिमाही के कार्यनिष्पादन के संबंध में बताया कि जमाओं के संबंध में वर्ष दर वर्ष आधार पर 8.92 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई है वहीं अग्रिमों के संबंध में 19.76 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज हुई है, वार्षिक ऋण योजना 2018 -19 के वार्षिक लक्ष्यों की तुलना में जून 2018 तक उपलब्धि स्थिति 23.46 प्रतिशत रही है जो कि जून 2017 के 21.25 प्रतिशत की तुलना में अधिक है तथापि इस संबंध में और प्रयास किए जाने की जरूरत है। राज्य में ऋ ण-जमा अनुपात में जून 2017 के 75.37 प्रतिशत की तुलना में काफी सुधार आया है और जून 2018 में यह 82.79 प्रतिशत के स्तर पर है जो कि भारतीय रिजर्व बैंक के मानदंडों से अधिक है। प्राथमिकता क्षेत्र ऋणों में वर्ष दर वर्ष आधार पर 11.60 प्रतिशत की वृद्धि हुई है और कृषि तथा कमजोर तबकों को ऋणों में क्रमश : 10.08 प्रतिशत एवं 10.02 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है। मुद्रा योजना के संबंध में आपने बताया कि दिनांक 31.08.2018 तक बैंकों ने रू 2524 करोड़ का ऋण संवितरण किया है. स्?टैंड अप इंडिया के संबंध में और प्रयास किए जाने की आवश्?यक्?ता है और बैंकों ने दिनांक 31.08.2018 तक योजना के आरंभ से 3315 लाभार्थियों को रू 692 करोड़ का ऋण संवितरित किया है. आपने बताया कि जिला एवं ब्?लॉक स्?तर  पर  सरफेसी एवं रोडा के तहत वसूली के मामले लंबित पड़े हुए हैं एवं इनका शीघ्र निस्?तारण किया जाना आवश्?यक है. समिति के संयोजक एवं बैंक ऑफ़ बड़ौदा के महाप्रबंधक श्री एन.सी.उप्रेती ने समिति द्वारा लिए गए निर्णयों के संबंध में विभिन्न बैंकों द्वारा की गई अनुवर्ती कार्रवाई की समीक्षा की एवं सरकारी योजनाओं को प्रभावी ढंग से लागू करने में सभी बैंकरों को अपनी भूमिका को निर्वाह करने का अनुरोध किया.बैठक में श्री शरद मेहरा , निदेशक (बजट) ,राजस्थान सरकार, श्री बी.एस.जाट, संयुक्त सचिव, आयोजना एवं आईएफ, श्री प्रमोद प्रधान, महाप्रबंधक, भा.रि.बै, श्री आर के थानवी, मुख्य महाप्रबंधक, नाबार्ड तथा राजस्थान सरकार  के विभिन्?न विभागों के पदाधिकारियों एवं सभी बैंकों के वरिष्ठ कार्यपालकों द्वारा सहभागिता की गई. बैंक ऑफ़ बड़ौदा के सहायक महाप्रबंधक (एसएलबीसी) श्री हितेश कुमार चौबीसा ने बैठक की कार्यसूची पर चर्चा का संचालन किया . गौरतलब है कि बैंक ऑफ़ बड़ौदा देश के दो बड़े राज्?यों उत्?तर प्रदेश एवं राजस्?थान में राज्?य स्?तरीय बैंकर समिति का संयोजक है.