शेरनी बनकर लडूंगी, राजस्थान पर आंच नहीं आने दूंगी

img

जयपुर
मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने कहा कि जिस तरह शेरनी अपने बच्चों के लिए, अपने परिवार के लिए लड़ती है, उसी तरह मैं भी एक शेरनी की तरह अपने राजस्थान रूपी परिवार के लिए लड़ूंगी, उसकी रक्षा करूंगी, उस पर आंच नहीं आने दूंगी। राजस्थान के हर इंसान की खुशहाली के लिए हमेशा डटी रहूंगी। जिस तरह से मां अपने बच्चों को गले से लगाकर रखती है उसी तरह मैंने 36 की 36 कौमों को गले से लगाया। राजे मेड़तासिटी में आयोजित एक आमसभा में बोल रही थीं। उन्होंने मेड़तासिटी एवं पुंदलोता में कहा कि कांग्रेस के जो नेता साढ़े चार साल तक गायब थे, वे आजकल अखबारों में छपकर दिखने की कोशिश कर रहे हैं। उन्हें साढ़े चार साल तक तो जनता की याद आई नहीं और चुनाव आते ही अचानक उन्हें प्रदेशवासी याद आने लगे हैं। राजे ने कहा कि हमने एक करोड़ महिलाओं को मोबाइल देने की योजना बनाई तो कांग्रेस उसका विरोध करने लगी। बारह साल से कम की बच्चियों के साथ बलात्कार करने वालों को हमने फांसी की सजा देने का कानून बनाया, पचास साल तक राज करने वाली कांग्रेस ने क्यों नहीं? इससे स्पष्ट हो जाता है कि महिलाओं की सुरक्षा को लेकर हम चिंतित हैं या वे। हमने महिलाओं के लिए जन्म से लेकर वृद्धावस्था तक सहायता देने की योजनाएं बनाईं, जिससे उन्हें किसी के सामने हाथ नहीं फैलाना पड़े। कांग्रेस ने चिकित्सकों के पद भरने के लिए कुछ भी नहीं किया। पचास साल के शासन में कांग्रेस ने सिर्फ सात मेडिकल कॉलेज खोले, जबकि हमने पांच वर्षों में ही सात कॉलेज खोल दिए। यदि कांग्रेस पर्याप्त मेडिकल कॉलेज खोल देती तो आज डॉक्टरों की कमी नहीं होती। ये अंतर है कांग्रेस और भाजपा की सरकार में कि जो कांग्रेस ने पचास साल में नहीं किया वो हमने पांच साल में कर दिखाया। एक तरफ उनके पचास साल हैं और दूसरी तरफ हमारे पांच साल।