स्वस्थ रहने के लिए अनुशासित जीवन शैली अपनाएं: कल्ला

img

स्वस्थ शरीर में ही होता है स्वस्थ मस्तिष्क का निवास 

जयपुर
जलदाय एवं ऊर्जा मंत्री डॉ. बी. डी. कल्ला ने लोगों से स्वस्थ रहने के लिए अनुशासित जीवन शैली का पालन करते हुए योग, प्राणायाम एवं प्राकृतिक चिकित्सा पद्धति को भी अपनाने की सलाह दी है। डॉ. कल्ला ने रविवार को जयपुर के विद्याधर नगर में शेखावटी विकास परिषद की ओर से शेखावटी केन्द्र में आयोजित नि:शुल्क चिकित्सा जांच एवं परामर्श शिविर का उद्घाटन करने के बाद वहां उपस्थित लोगों को सम्बोधित करते हुए यह बात कही। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि कई लोग रोगों को लम्बे समय तक पालते रहते है और समय पर चिकित्सकीय सलाह लेने से गुरेज करते है, यह आदत ठीक नहीं है, सभी को अपने स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहते हुए जरूरत के अनुसार समय-समय पर परामर्श लेना चाहिए। उन्होंने कहा कि समाज, समुदाय या संस्थाओं के स्तर पर आयोजित होने वाले मैडिकल कैम्प ऐसे लोगों को चिकित्सकीय परामर्श और उपचार का अवसर प्रदान करते है। ऐसे शिविरों में कई दिनों से चल रही बीमारियों के इलाज का उनको मौका मिलता है। उन्होंने विद्याधर नगर क्षेत्र में इस प्रकार के कैम्प के आयोजन के लिए शेखावटी विकास परिषद के प्रयासों की सराहना की। डॉ. कल्ला ने कहा कि स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ मस्तिष्क का निवास होता है। स्वास्थ्य में गड़बड़ी के कारण व्यक्ति चिड़चिड़ा रहता है और थका हुआ सा महसूस करता है। उन्होंने शिविर में उपस्थित लोगों से स्वास्थ्य के प्रति जागरूक रहने को कहा। साथ ही उनसे कई प्राकृतिक एवं घरेलु नुस्खों तथा क्रिया योग व प्राणायाम के बारे में भी जिक्र किया। शेखावाटी विकास परिषद के अध्यक्ष जेपी मिश्र (रिटायर्ड आईपीएस) ने बताया कि शिविर में करीब 700 लोगों को विशेषज्ञ डॉक्टर्स द्वारा चिकित्सा परामर्श दिया गया, इनकी नि:शुल्क जांचे भी शेखावाटी केन्द्र की लैब में की गई। शिविर में डॉ. शिव गौतम, डॉ. एस. एस शर्मा, डॉ. एसएस यादव, डॉ. नरेन्द्र जोशी, डॉ. शशि मोहन शर्मा, डॉ. सुरेन्द्र आबुसरिया, डॉ. दिनेश शर्मा, डॉ. सुनील शर्मा और डॉ. माया शर्मा सहित विशेषज्ञ चिकित्सकों ने अपनी सेवाएं दीं।