मैं प्रदेश का उपमुख्यमंत्री हूं, आज भी टिकट के लिए परिवार की पैरवी करूंगा तो कार्यकर्ताओं का क्या होगा : सचिन पायलट

img

जयपुर
आगामी लोकसभा चुनाव को लेकर उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने बड़ा एलान किया। उन्होंने कहा कि उनके परिवार से ये चुनाव कोई नहीं लड़ेगा और वे भी किसी के लिए टिकट की मांग नहीं रखते हैं। बीजेपी द्वारा अक्सर कांग्रेस पर परिवारवाद के उठाए जाने वाले सवालों पर उन्होंने ये करारा जवाब भी दिया। उन्होंने कहा कि वे भी अगर टिकट मांगने चले तो आम कार्यकर्ता का क्या होगा। पायलट किसान कर्ज माफी, सवर्ण आरक्षण, गुर्जर आरक्षण के मसले पर भी अपनी राय रखी। अजमेर और टोंक सवाई माधोपुर की लोकसभा सीट को लेकर बीते कई दिनों से राजनीतिक गलियारों में कयास लगाए जा रहे थे, कि डिप्टी सीएम सचिन पायलट के परिवार से इन सीटों पर कोई भी सदस्य चुनाव लड़ सकता हैं। लेकिन आज सचिन पायलट के इस एलान के बाद अब साफ हो चुका है कि आगामी लोकसभा चुनाव में पायलट परिवार से कोई भी सदस्य चुनाव नहीं लडेगा। राजधानी के एक कॉलेज में पायलट ने मीडिया से बातचीत में साफ किया कि अगर वे ही अपने परिवार के लिए टिकट की मांग करेंगे तो फिर आम कार्यकर्ता का क्या होगा। उन्होंने कहा कि पार्टी के अच्छे कार्यकर्ता को टिकट दिया जाएगा। पार्टी चुनाव को देखते हुए अच्छे उम्मीदवारों के चयन की कवायद में भी जुट गई हैं। पायलट परिवार के किसी सदस्य के चुनाव नहीं लडऩे के एलान के बाद इसे बीजेपी को एक बड़े जवाब के तौर पर देखा जा रहा हैं। जो अक्सर कांग्रेस पर परिवारवाद की राजनीति को बढावा दिए जाने के सवाल खड़े करती रही हैं। गुर्जर आरक्षण पर पायलट का बयान सचिन पायलट ने राज्य में फिर से सक्रिय होने वाले गुर्जर आरक्षण के मसले पर भी अपनी प्रतिक्रिया दी। उन्होंने कहा कि पिछली सरकार ने जो गलतियां की है वे उसे नहीं दोहराना चाहेंगे। जबकि इसका पूरा समाधान निकालने की कोशिश होगी। जबकि राज्य में सवर्ण आरक्षण को पार्टी का कमिटमेंट बताते हुए जल्द पूरा करने की बात कही। 

किसानों के मामले पर केन्द्र पर निशाना साधा
जबकि किसान कर्ज माफी को लेकर केन्द्र पर पायलट ने निशाना साधते हुए कहा कि सरकार ने पांच साल में किसानों को लेकर कोई काम नहीं किए। लेकिन अब राज्य में चुनाव के लिहाज से बीजेपी केवल अपनी राजनीतिक सक्रियता के दिखाने के कारण जेल भरो जैसे आंदोलन कर रही हैं। इससे पहले किसानों की कर्ज माफी को आज की तात्कालिक जरूरत बताई। पायलट ने ये भी कहा कि आत्महत्या करने वाले किसानों के नाम पर कर्ज माफी का दुरपयोग करने से दुखद कुछ नही हो सकता। इस पर कड़ी से कड़ी सजा मिलनी चाहिए। पायलट ने किसान कर्ज माफी को जरूरत बताया। पायलट ने कहा कि कर्ज माफी सहकारी के साथ ही केन्द्रीकृत बैंकों की कर्ज माफी पर कवायद जारी है।

जो बाजार की जरूरत हो उसे ही पढाया जाना चाहिए
कानोडिय़ा कॉलेज में स्नातक अभिनन्दन और पुरस्कार वितरण समारोह का आयोजन किया गया। पुरस्कार वितरण के तहत यहां श्रेष्ठ छात्रा के लिए 'इकेदा ट्राफी' श्रद्धा शर्मा को दी गई। कॉलेज में विभिन्न शैक्षणिक व सहशैक्षणिक गतिविधियों में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाली एवं सर्वाधिक अंक प्राप्त करने वाली छात्राओं को पुरस्कृत किया। समारोह में छात्राओं की हौंसला अफजाई करते हुए सचिन पायलट ने विद्यार्थियों को रोजगारपरक शिक्षा देने की जरूरत बताई। उन्होंने कहा कि शिक्षा का उद्देश्य केवल डिग्रीधारक खडे करना नहीं बल्की व्यावसायिक जगत में कार्य करने में सक्षम कुशल युवाशक्ति का निर्माण करना है। इस मौके पर कॉलेज छात्राओं पायलट से राजनीति, शिक्षा व शिक्षण व्यवस्था पर आधारित प्रश्न भी पूछे जिनके उन्होंने बेहद सरलता से जवाब दिए। कार्यक्रम में इतिहासकार डॉक्टर रीमा हूजा ने भी व्याख्यान दिया।