जयपुर में बनेगा इंटरनेशनल सिनेमा सेंटर

img

जयपुर
जयपुर वासियों और विश्व फिल्म इंडस्ट्री के लिए बड़ी खुश खबरी है कि जल्द ही यहाँ विश्व की सबसे बड़ी और सिक्योर फिल्म लाइब्रेरी बनने जा रही है। यह विश्व भर में सिनेमा को सहेजने और आने वाली पीढिय़ों तक पहुँचाने की दिशा में, अब तक की सबसे बड़ी कोशिश है। इस लाइब्रेरी के ज़रिए, आने वाले 10 वर्षों में लगभग 1 लाख से भी अधिक फिल्मों को संग्रहित किया जा सकेगा। ये प्रक्रिया 2020 से शुरू होने जा रही है। जयपुर इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल ट्रस्ट का यह विश्वस्तरीय प्रोजेक्ट, दुनिया भर के सिनेमा प्रेमियों की नजऱों में छाया रहेगं सांस्कृतिक सामंजस्य बना सकना। इस कड़ी में जयपुर इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल ट्रस्ट का मकसद है एक ऐसी ग्लोबल फिल्म लाइब्रेरी स्थापित करना, जहाँ कला और संस्कृति को सहेजने के लिए लगातार कोशिशें बनी रहें। सिनेमा एक ऐसा माध्यम है, जिसमें कई कलात्मक पक्ष एक साथ जुड़ जाते हैं, और यही कारण है कि फिल्मों को सहेजना एक बड़ा काम है। इसकी महत्ता को ध्यान में रखते हुए ही, जिफ की ओर से लाइब्रेरी बनाने की योजना पर काम किया जा रहा है। फाउंडर हनु रोज ने बताया की पहले चरण में, आगामी 26 अगस्त 2020 को लाइब्रेरी की नींव का पहला पत्थर रखा जाएगा। लाइब्रेरी की भव्यता का अनुमान इससे लगाया जा सकता है कि यह लगभग 2 हैक्टेयर क्षेत्र में फैली होगी। वहीं, आगे चलकर पहले चरण में, 26 अगस्त 2023 को इसके दूसरे राउंड का फाउंडेशन स्टोन रखा जाएगा। इस मर्तबा लाइब्रेरी का निर्माण 11 हैक्टेयर से भी ज्यादा बड़े क्षेत्र में होगा। लाइब्रेरी का निर्माण 4 चरणों में होगा : फेज़ 1 में जनरल लाइब्रेरी का निर्माण होगा। फेज़ 2 में ऑनलाइन लाइब्रेरी और सिक्योर जनरल लाइब्रेरी का निर्माण होगा। वहीं, फेज़ 3 में सर्वाधिक सिक्योर फिल्म वॉल्ट के साथ विश्व की सबसे बड़ी लाइब्रेरी का निर्माण होगा। फेज़ 4 में वर्ड सिनेमा, कल्चरल स्टडीज़ सेंटर, तथा फिल्म री-स्टोरेशन सेंटर का निर्माण होगा।

सुविधाओं से भरपूर होगी लाइब्रेरी
इस लाइब्रेरी में जनरल और ऑनलाइन फिल्म लाइब्रेरी के साथ ही हर देश के सिनेमा और कल्चर के लिए एक फि़जि़कल सेंटर होगा। सुविधाओं से भरपूर गेस्ट हाउस, ऑडिटोरियम्स, सिनेमा और कल्चरल स्टडी एण्ड रिसर्च सेंटर के अलावा फिल्मों से जुड़ी पत्रिकाएं, अख़बार और अन्य सामग्री उपलब्ध होगी, जिससे शोधार्थी और सदस्य इनका उपयोग कर सकें। यहां नियमित रूप से फिल्मों के शोज़, कार्यशालाएँ, सेमिनार और वार्ताएं होंगी। साथ ही हर देश के नाम के साथ सिनेमा गैलरी उपलब्ध होगी। ओपर एयर थिएटर होगा। हैलीपैड, कैफेटेरिया जैसी सुविधाएं भी होंगी।

हर देश के नाम एक सिनेमा गैलरी
हर देश की सिनेमा यात्रा अलग और अनोखी होती है। इसे जानने – समझने के लिए ज़रूरी है कि प्रत्येक देश की सिनेमा गैलरी अलग हो, ताकि उनकी फिल्मों को सही तरह से सहेजा जा सके।

अनुभवी फिल्म निर्माताओं के लिए लाइब्रेरी में होंगी रैक्स
सिनेमा से जुड़े अनुभवी निर्माताओं और प्रोडक्शन हाउसेज़ को बढ़ावा मिले, इसका भी भरपूर ध्यान रखा गया है। ऐसे दिग्गज निर्माताओं को समर्पित लाइब्रेरी रैक्स होंगी, जिनके कैटलॉग्स उन प्रोड्यूसर्स या प्रोडक्शन हाउस को दिए जाएंगे।

उभरते फिल्मकारों को भी बढ़ावा
नए फिल्म निर्माताओं के लिए अलग सिनेमा गैलरी मौजूद होगी। यह ऐसे उभर रहे फिल्म निर्माताओं – निर्देशकों के नाम होगी, जिन्होने कम से कम 3 फिल्में बनाई हों। इस गैलरी की सुविधा संस्थापक सदस्यों को निशुल्क दी जाएगी।

सदस्य बनें, लाभ उठाएं
जिफ की कोशिश है कि अधिकाधिक सिने प्रेमी इस अभियान से जुड़ें। लाइब्रेरी की मेंबरशिप या सदस्यता के ज़रिए कोई भी व्यक्ति लाइब्रेरी की सेवाओं का लाभ ले सकता है। इस विश्वस्तरीय प्रोजेक्ट का निर्माण युवा भारतीयों के हाथों हुआ है। लाइब्रेरी का उद्देश्य यही है कि सिनेमा, कला एवं संस्कृति को बड़े स्तर पर सुरक्षित रखा जा सके।

हर माह होगी फिल्म रेटिंग्स
फिल्म निर्माता विविध देशों, श्रेणियों और भाषाओं में बनी सभी फिल्मों को लाइब्रेरी में सब्मिट कर सकते हैं। लाइब्रेरी की ओर से हर महीने, फिल्मों, गीतों, पोस्टर्स, विज्ञापन फिल्मों और स्क्रीन प्लेज़ की रेटिंग्स की घोषणा की जाएगी। टॉप रेटेड फिल्मों को एक करोड़ रुपये से अधिक का नकद पुरस्कार दिया जाएगा।

दुनिया के बेहतरीन सिनेमा को सहेजने का माध्यम
विश्व के सर्वाधिक लोकप्रिय फिल्म उत्सव जिफ के संस्थापक हनु रोज़ मानते हैं कि लाइब्रेरी एकेडमी अवॉर्ड्स - दुनिया के सर्वश्रेष्ठ सिनेमा को खोजने, और करोड़ों लोगों के प्रिय सिनेमा उद्योग का उत्सव मनाने का मंच है। अधिकाधिक लोगों का सहयोग ही इस अभियान को सफल बना सकता है। दुनिया भर के सिने और कलाप्रेमियों से अपील है कि वे इस मुहिम से जुड़ें, और हमारे समाज – संस्कृति के लिए अहम् सिनेमा को फलने – फूलने में योगदान दें। हमने जो अब तक नहीं किया है उस काम को करने का समय आ चुका है। आओ मिलकर इसकी शुरुआत करें।

गतिविधियां 
इस प्रोजेक्ट के लिए जयपुर वासियों ने 2016 में 1100 दीपक जलाये थे और लाइब्रेरी इन्टरनेशनल फिल्म फेस्टिवल का आयोजन किया गया था। इस साल जनवरी में देश विदेश के फि़ल्मकारों ने 2100 दीपक जैम सिनेमा पर जलाए थे जिससे इस प्रोजकेट की रोशनी पूरी दुनियाँ तक पहुँच सके। अगली बार 5100 दीपक जलाए जाएँगे। ये सिलसिला एक लाख दीपक जलाने तक चलता रहेगा।