इंवेस्टर्स फ्रैण्डली होगी एमएसएमई इंवेस्टमेंट फेसिलिटेशन सेंटर : उद्योग आयुक्त

img

जयपुर
उद्योग आयुक्त डॉ. समित शर्मा ने राज्य स्तरीय एमएसएमई इंवेस्टमेंट फेसिलिटेशन सेंटर एमआईएफसी को इंवेस्टर्स फ्रैण्डली बनाने की आवश्यकता प्रतिपादित की है। उन्होंने कहा कि इस केन्द्र को इस तरह से विकसित किया जा रहा है कि सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यमियों की निवेश जिज्ञासाओं को समाधान एक ही स्थान पर हो सके। आयुक्त डॉ. शर्मा ने गुरुवार को वरिष्ठ अधिकारियों के साथ राज्य स्तरीय एमआईएफसी सेंटर की कार्यप्रणाली का अवलोकन किया और कार्मिकों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। उन्होंने इस बात पर खुशी जाहिर की कि केन्द्र के आरंभ होते ही प्रदेश के निवेशक रुचि प्रकट करने लगे हैं और अपनी जिज्ञासाओं का समाधान में केन्द्र का सहयोग लेने लगे हैं। आयुक्त डॉ. शर्मा ने साफ किया कि आईएमएफसी सेंटर की स्थापना के पीछे साफ उददेश्य यही है कि उद्योग विभाग रेगुलेटर के स्थान पर फसिलेटर की भूमिका में आगे आए और इसी उद््देश्य पर आगे बढ़ते हुए सभी जिला उद्योग केन्द्रों में इस तरह के केन्द्र स्थापना की शुरुआत करते हुए आवश्यक बजट राशि भी उपलब्ध करा दी गई है। अतिरिक्त निदेशक डीसी गुप्ता और संयुक्त निदेशक व प्रभारी एमआईएफसी प्रकोष्ठ सीएल वर्मा ने एमआईएफसी की कार्यप्रणाली की जानकारी देते हुए बताया कि केन्द्र के कार्मिकों द्वारा निवेश योजनाओं व निवेश संभावनाओं सहित वित्तीय, तकनीकी, विपणन सहित आवश्यक मार्गदर्शन प्रदान किया जाने लगा है। नोलेज पार्टनर केपीएमजी के एसोसिएट निदेशक धवल पिपलानी ने बताया कि एमआईएफसी सेंटर के आरंभ होने के चार से पांच कार्य दिवसों में ही निवेशकों ने रुचि दिखाना आरंभ कर दिया है। उन्होंने बताया कि जयपुर के अभिनव जोशी, अदिती दाधीच, महेन्द्र चौधरी, शशीक मेहरा और अरुण कुमार ने वित्तीय सहायता, बैंक लोन, रिप्स योजना, मार्केट प्रमोशन आदि के बारे में अपनी जिज्ञासायें रखी है। इस अवसर पर संयुक्त निदेषक श्री एसएस षाह, सहायक निदेषक प्रचार-प्रसार डॉ, राजेन्द्र शर्मा व केपीएमजी के कार्मिक भी उपस्थित थे।